हिन्दू राष्ट्र की स्थापना विश्वकल्याण के लिए – सद्गुरु डॉ. चारुदत्त पिंगळेजी, राष्ट्रीय मार्गदर्शक, हिन्दू जनजागृति समिति

आज हिन्दुओं की जो भी कुछ समस्याएं हैं, उनका हम संगठित शक्ति से ही हल ढूंढ सकते हैं । अतः सनातन धर्म वट वृक्ष की शाखाएं भले ही अनेक हों; परंतु हमें एकत्रित होकर ही कार्य करना होगा’’, ऐसा मार्गदर्शन हिन्दू जनजागृति समिति के राष्ट्रीय मार्गदर्शक सद्गुरु डॉ. चारुदत्त पिंगळेजी ने किया ।

‘सनातन संस्था सेवा’ द्वारा आयोजित होली मिलन समारोह में हिन्दू जनजागृति समिति का सम्मान !

‘सनातन संस्था सेवा’ द्वारा आयोजित होली मिलन समारोह में हिन्दू जनजागृति समिति के वाराणसी के समिति सेवक श्री. राजन केशरी को मुख्य अतिथि के रूप में बुलाकर सम्मान किया गया ।

राजस्थान के ‘गोग्रास सेवा समिति’ द्वारा हिन्दू जनजागृति समिति का सम्मान !

‘हरियालो राजस्थान’ संगठन के पाली जिला प्रमुख श्री. वासुदेव सांखलाजी ने बताया कि ‘‘समिति को पिछले १५-२० वर्ष से देख रहा हूं । समाज में जब भी प्रबोधन की आवश्यकता होती है, समिति आगे होकर बहुत अच्छे से इस कार्य को करती है । राष्ट्र और धर्म के लिए ऐसे निरपेक्ष कार्य करने की आज नितांत आवश्यकता है ।’’

नेताजी सुभाषचंद्र बोस की जयंती निमित्त हिन्दू जनजागृति समिति द्वारा विशेष ‘ऑनलाइन’ संवाद का आयोजन

नेताजी सुभाषचंद्र बोस के आत्मसमर्पण के तत्त्वज्ञान एवं ईश्वर के अधिष्ठान के बल पर कार्य करने की प्रेरणा लेकर हमें हिन्दू राष्ट्र-स्थापना के कार्य में योगदान बढाने की आवश्यकता है ।

देश के विभाजन का पुनः प्रयास किया गया, तो इससे पहले विभाजित क्षेत्र को पुनः अपने हाथ में ले लेंगे ! – कपिल मिश्रा, पूर्व विधायक तथा संस्थापक, ‘हिन्दू् इकोसिस्टम’

विश्‍व के किसी भी देश में अल्‍पसंख्‍यकों को बहुसंख्‍यकों से धर्मपरिवर्तन का भय होता है; परंतु भारत में यह स्‍थिति उल्‍टी है । यहां अल्‍पसंख्‍यक नहीं, अपितु बहुसंख्‍यक लोग अपने धर्म की रक्षा के लिए धर्मांतरण विरोधी कानून की मांग कर रहे हैं ।

देहली की ‘चंगाई सभाओं’ द्वारा हिन्दुओं का धर्मांतरण किए जाने के विरोध में हिन्दुत्वनिष्ठ संगठनों द्वारा प्रदर्शन !

आंदोलन में विश्व हिन्दू परिषद, बजरंग दल, हिन्दू जनजागृति समिति इत्यादि हिन्दुत्वनिष्ठ संगठनों के कार्यकर्ता, साथ ही स्थानीय हिन्दू विशाल संख्या में सहभागी हुए थे । इनमें महिलाएं भी सम्मिलित थीं ।