श्री रामनवमी के जुलूसों पर देश के ५ राज्यों में धर्मांध कट्टरपंथियों का आक्रमण !

हिन्दू राष्ट्र में हिन्दुओं के ही धार्मिक जुलूसों पर आक्रमण करने का साहस अनेक वर्षों से चला आ रहा है । इस स्थिति को बदलने के लिए, अब हिन्दुओं को युद्ध स्तर पर संवैधानिक मार्गों से सर्वंकष प्रयास करने चाहिए ।

कुतुबमीनार पूर्व के विष्णु मंदिर का ‘गरुड स्तंभ’ होने से हिन्दुओं को सौंपा जाए ! – विश्व हिन्दू परिषद

वास्तव में ऐसी मांग ही करनी न पडे, अत: केंद्र सरकार स्वयं ही खरा इतिहास देश के सामने रखकर ‘गरुड स्तंभ’ हिन्दुओं के नियंत्रण में दे !

भाजपा, बजरंग दल तथा विहिंप के विरोध के कारण शिवमोग्गा जत्रोत्सव में मुसलमान दुकानदारों को अनुमति देने से इनकार किया गया

हिन्दू समाज के दुकानदारों को ही जत्रोत्सव में दुकान लगाने की अनुमति दी जाए, भाजपा तथा अन्यों के द्वारा ऐसी मांग की मांग गई थी । शिवमोग्गा उत्सव समिति’ ने उनकी मांग मान ली है ।

विहिप ने हिन्दुओं का धर्मांतरण करने वाले मदर टेरेसा के संगठनों को पैसा देने के लिए ओडिशा सरकार का विरोध किया !

हिन्दू मठों एवं मंदिरों का सरकारीकरण कर उनकी अर्पण राशि छीनने वाले ; परंतु, ईसाई संस्थानों को मुक्त हाथों से दान देने वाले बीजू जनता दल सरकार से, अब हिन्दुओं को संवैधानिक मार्ग से स्पष्टीकरण की मांग करनी चाहिए !

कालीचरण महाराज को २४ घंटों में मुक्त नहीं किया जाने पर हिन्दू महासभा आंदोलन करेगी !

हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष स्वामी त्रिदंडी महाराज ने की घोषणा

धर्मांतरण विरोधी कानून के पक्ष में विहिंप का २१ दिसंबर से राष्ट्रव्यापी आंदोलन !

मूल रूप से, ऐसी मांग और ऐसा आंदोलन करने की आवश्यकता ही नहीं होनी चाहिए ! हिन्दुओं को लगता है, कि सरकार को यह कानून तुरंत बनाना चाहिए !

 ‘तबलीगी जमात’ पर भारत में भी प्रतिबंध लगाएं ! – विहिप की मांग

साथ ही उसका समर्थन करने वाले ‘दारुल उलूम देवबंद’ और ‘पापुलर फ्रंट ऑफ इंडिया’ इन संगठनों पर कार्यवाही होनी चाहिए, ऐसी मांग भी की गई है ।

रांची (झारखंड) में विश्व हिन्दू परिषद के नेता की गोली मारकर हत्या

अन्य समय में आधुनिकतावादी और धर्मनिरपेक्षतावादियों की हत्या होने पर अत्यधिक शोर करने वाले संगठन और पुरस्कार वापस करने वाला समूह हिन्दुत्वनिष्ठों की हत्या होने पर एक भी शब्द निकालते नहीं, यह ध्यान दें !

देहली की ‘चंगाई सभाओं’ द्वारा हिन्दुओं का धर्मांतरण किए जाने के विरोध में हिन्दुत्वनिष्ठ संगठनों द्वारा प्रदर्शन !

आंदोलन में विश्व हिन्दू परिषद, बजरंग दल, हिन्दू जनजागृति समिति इत्यादि हिन्दुत्वनिष्ठ संगठनों के कार्यकर्ता, साथ ही स्थानीय हिन्दू विशाल संख्या में सहभागी हुए थे । इनमें महिलाएं भी सम्मिलित थीं ।

पंजाब में हिन्दू और सिक्खों के विरोध के कारण राज्य के मुख्यमंत्रक्ष ने ईसाई मिशनरियों की ‘चंगाई सभा’ में जाना टाल दिया !

चंगाई सभा के मुख्य आयोजक पादरी पर हत्या और बलात्कार का आरोप