सच्चिदानंद परब्रह्म डॉ. जयंत आठवलेजी के ओजस्वी विचार

‘जिस प्रकार अनपढ व्यक्ति का यह कहना कि ‘सभी भाषाओं के अक्षर समान होते हैं’, उसका अज्ञान दर्शाता है । उसी प्रकार ‘सर्वधर्म समभाव’ कहनेवाले अपना अज्ञान दर्शाते हैं । ‘सभी औषधियां, सभी कानून समान ही हैं’, ऐसा ही कहने के समान है, ‘सर्वधर्म समभाव’ कहना !’

‘द वीक’ साप्ताहिक की ओर से भगवान शिव और कालीमाता का घृणास्पद चित्र प्रकाशित

हिन्दू देवताओं का अनादर करनेवाले ‘द वीक’ जैसे नियतकालिक क्या कभी मुसलमानों अथवा ईसाईयों के आस्था के केंद्रों का अनादर करने का साहस दिखाते हैं ?

पी.एफ.आई. के ३ लाख बैंक खातों में इस्लामी देशों से प्रतिवर्ष जमा किए जाते हैं ५०० करोड रुपए !

एक इस्लामी संगठन को यदि इतने पैसे मिलते होंगे, तो अन्य इस्लामी संगठन, मदरसों और मस्जिदों को कितने पैसे मिलते होंगे, इसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती !

आतंकवादियों से लडाई !

वर्ष २०११ के ९ सितंबर ‘९/११’ को जिस ‘वर्ल्ड ट्रेड सेंटर’ के ‘ट्वीन टॉवर’ पर हुए आतंकवादी आक्रमण में ३ सहस्र से अधिक अमेरिकी नागरिक मारे गए थे, उसका प्रतिशोध अमेरिका ने अंततः १ अगस्त २०२२ को ले ही लिया ।

असम में जिहादी गतिविधियां चलानेवाले ७०० मदरसे बंद !

संपूर्ण देश के अनेक मदरसे जिहादियों को आश्रय देनेवाले अड्डे बन चुके हैं, यह अनेक बार प्रमाणित हुआ है । इसलिए अब ऐसे कानून को केवल असम तक सीमित न रखकर केंद्र शासन को उसे राष्ट्रीय स्तर पर बनाने की आवश्यकता है !

बरेली के ईसाई पाठशाला में मेहंदी लगाकर आई साढे तीन वर्ष आयु की छात्रा को दिया दंड !

एलर्जी के नाम पर हिन्दुओं की परंपराआ का विरोध करने की ईसाई मिशनरी पाठशालाओं की यही पद्धति है, हिन्दू इतने भी मूर्ख नहीं कि यह उनकी समझ में न आए !

सुरक्षा बलों के विरुद्ध झूठी याचिका प्रविष्ट करनेवाले नक्सली समर्थकों का षड्यंत्र और उसमें दिखी अर्थहीनता !

इस प्रकरण में केंद्र सरकार ने स्वतंत्र हस्तक्षेप याचिका अथवा आवेदन देकर न्यायालय से यह अनुरोध किया कि नक्सलियों के समर्थक और वामपंथी विचारधारा के लोग बडी मात्रा में पुलिस और अर्धसैनिक बलों के कथित अत्याचार के विरुद्ध झूठी याचिकाएं प्रविष्ट करते हैं ।

संयुक्त राष्ट्र, भारत तथा विश्व के देशों को बांग्लादेश के हिन्दुओं की रक्षा करने हेतु अग्रसर रहना चाहिए ! – पू. (अधिवक्ता) रविंद्र घोष, अध्यक्ष, ‘बांग्लादेश मायनॉरिटी वॉच’

कुरान अथवा मोहम्मद पैगंबर का अनादर करने के झूठे आरोप लगाकर हिन्दुओं के मंदिर तोडना, देवी-देवताओं की मूर्तियां तोडना, हिन्दुओं के उपनिवेशों को जलाना, हिन्दुओं की हत्या करना तथा महिलाओं और लडकियों पर बलात्कार जैसे प्रकार दिन-प्रतिदिन बढ रहे हैं ।

आतंकियों द्वारा चलाई जा रही जिहाद की ३ पद्धतियां !

जिहाद का अर्थ है ‘तलवार के बल पर आगजनी और बलात्कार करते हुए काफिरों की (गैरमुसलमानों की) अंधाधुंध हत्याएं करते हुए उनकी संपत्ति लूटना और उनकी स्थाई और अन्य संपत्ति हडप लेना !’ वास्तव में देखा जाए तो एक पंथ के रूप में इस्लाम का अध्यात्म के साथ थोडा भी संबंध नहीं है ।

षड्यंत्र प्रमाणों के साथ हुआ उजागर !

इंग्लैंड की न्यायव्यवस्था ने भी धर्म पर हो रहे ‘लव जिहाद’ का आक्रमण पहचानकर दोषियों को दंड दिया, साथ ही वहां की जनता ने भी उसके विरुद्ध संगठित होकर आंदोलन चलाया ।