हिन्दुओं का वंशविच्छेद मान्य करेंगे, तब ही कश्मीरी हिन्दुओं का पुनर्वसन संभव ! – राहुल कौल, राष्ट्रीय अध्यक्ष, यूथ फॉर पनून कश्मीर

‘द कश्मीर फाइल्स’ नामक चलचित्र में कश्मीरी हिन्दुओं पर आई भीषण परिस्थिति केवल ५ प्रतिशत ही दिखाई गई है । कश्मीर में केवल कश्मीरी हिन्दुओं के पुनर्वसन का प्रश्न है, इस भ्रम में न रहें । कश्मीर में भारतीय राष्ट्रवाद निर्माण होना आवश्यक है ।

‘सनातन संस्था सेवा’ द्वारा आयोजित होली मिलन समारोह में हिन्दू जनजागृति समिति का सम्मान !

‘सनातन संस्था सेवा’ द्वारा आयोजित होली मिलन समारोह में हिन्दू जनजागृति समिति के वाराणसी के समिति सेवक श्री. राजन केशरी को मुख्य अतिथि के रूप में बुलाकर सम्मान किया गया ।

सर्वधर्मीय कश्मीरियों पर हुए अत्याचार पर आधारित ‘द अनटोल्ड कश्मीर फाइल’ वीडियो प्रसारित !

कितने कश्मीरी मुसलमानों ने इस जिहादी आतंकवाद के विरोध में आवाज उठाई है ? भारतीय सेना के जवानों पर पत्थर फेंकने वाले हिंसक जिहादियों एवं राष्ट्र विरोधी घोषणाएं देने वालों को कितने लोगों ने परावृत्त किया ?

संयुक्त अरब अमिरात में किसी भी दृश्य को हटाए बिना ‘द कश्मीर फाइल्स’ सिनेमा प्रदर्शित होगा !

एक ओर भारत में इस सिनेमा से धार्मिक द्वेष फैलाए जाने का आरोप ढोंगी धर्मनिरपेक्षतावादी राजनीतिक पार्टियों की ओर से किए जाते हुए अब एक इस्लामी देश में यह सिनेमा प्रदर्शित किए जाने से उन्हें तमाचा पडा है !

चलचित्र ‘द कश्मीर फाइल्स’ के प्रदर्शन की अनुमति देने की कोई आवश्यकता नहीं थी ! – शरद पवार

शरद पवार जैसे तथाकथित धर्मनिरपेक्षतावादियों द्वारा, गत ३२  वर्षों से कश्मीरी हिन्दुओं के विरुद्ध हुए अन्याय को दबाया गया है । जैसा कि अब स्पष्ट दिखाई दे रहा है, हिन्दू जागृत हो रहे हैं और शरद पवार जैसे नेताओं के राजनीतिक दलों को चुनाव में परिणाम भुगतने होंगे ; इसलिए, वे निराशा में इस प्रकार … Read more

असम की स्थिति कश्मीर जैसी नहीं होगी, इसके लिए मुसलमान हिन्दुओं को आश्वस्त करें !

क्या अभी तक असम के किसी मुख्यमंत्री ने इतनी कठोरता से मुसलमानों को सुनाया था ? असम के हिन्दुओं की रक्षा करने के लिए सरमा कठोर कदम उठाएं, यही हिन्दुओं की भावना है !

कश्मीरी हिन्दुओं पर किए गए अत्याचारों के लिए कश्मीरी मुसलमानों को उनसे हाथ जोडकर क्षमा मांगनी चाहिए !

केवल हाथ जोडकर क्षमा मांगने से कुछ नहीं होगा और कश्मीरी मुसलमान ऐसी क्षमा मांगेंगे, इसकी भी संभावना नहीं है । इसलिए अब केंद्र सरकार को ही अब प्रधानता लेकर इन अत्याचारों में संलिप्त मुसलमानों को दंड मिलने हेतु प्रयास करने चाहिए, तभी जाकर वास्तव में कश्मीरी हिन्दुओं को न्याय मिलेगा !

रशिया-यूक्रेन के युद्ध पर बोलनेवाले कश्मीर में हिन्दुओं पर हुए अत्याचारों पर क्यों नहीं बोलते ? – प्रा. रेणुका धर बजाज, देहली विश्वविद्यालय

३२ वर्ष पूर्व भारत के एक राज्य में हिन्दुओं के साथ क्या हुआ ?, यह भारतीयों को अभी तक यह ज्ञात नहीं हैै । वास्तव में, भारत के हिन्दुओं ने कश्मीरी हिन्दुओं के लिए कुछ नहीं किया; इसलिए अब तो हिन्दुओं को जागृत होकर कश्मीरी हिन्दुओं को न्याय दिलाना चाहिए ।

‘द कश्मीर फाइल्स’ के निमित्त…

बॉलीवुड में प्रतिवर्ष गुंडे, माफिया, ‘ड्रग्स पेडलर’, गंगूबाई जैसे वेश्यागृहों की मालकिन का उदात्तीकरण करनेवाले अनेक ‘ड्र्रामा फिल्म्स’ प्रदर्शित होती हैं । ऐसे चलचित्र देखने की अपेक्षा भारतीय ‘द कश्मीर फाइल्स’ देखना देशहितकारी सिद्ध होगा ।

जिहादियों की क्रूरता और हिन्दुओं का आक्रोश : ‘द कश्मीर फाइल्स’

इस फिल्म में पग-पग पर ‘पूरे विश्व को कश्मीरी हिन्दुओं की व्यथा ज्ञात हो’; इसके लिए किए भागीरथी प्रयास दिखाई देते हैं । जिहादी आतंकी और उनके संरक्षकों (उदा. राज्यकर्ता, निष्क्रिय अधिकारी, बुद्धिजीवी, धर्मनिरपेक्षतावादी इत्यादि) के विरुद्ध असंतोष जागृत करने में यह फिल्म सफल रही है ।