शोध के माध्यम से संपूर्ण मानवजाति को अनमोल धरोहर उपलब्ध करानेवाले ‘महर्षि अध्यात्म विश्वविद्यालय’ को चित्रीकरण हेतु उपयुक्त सामग्री की आवश्यकता !

‘महर्षि अध्यात्म विश्वविद्यालय’ वैज्ञानिक परिभाषा में आध्यात्मिक शोध करने हेतु अद्वितीय कार्य करनेवाली संस्था है । इस विश्वविद्यालय के कुछ साधक संतों के मार्गदर्शन में विविध स्थानों पर यात्रा कर भारतीय संस्कृति की अनमोल धरोहर संग्रहित कर रहे हैं ।

महाशिवरात्रि के दिन शिवलिंग पर अभिषेक करने से व्यक्ति को आध्यात्मिक लाभ होना

महाशिवरात्रि का व्रत फाल्गुन कृष्ण पक्ष चतुर्दशी की तिथि पर आता है । महाशिवरात्रि पर शिवतत्त्व सदैव की तुलना में १ सहस्र गुना कार्यरत होता है । महाशिवरात्रि के दिन भगवान शिव की उपासना, अभिषेक, पूजा एवं जागरण करने की परंपरा है ।

‘निर्विचार’ नामजप का साधकों और संतों पर होनेवाला परिणाम

 ‘निर्विचार’ नामजप के संदर्भ में की गई शोधपूर्ण जांच से ध्यान में आता है कि ‘निर्विचार’ जप आध्यात्मिक पीडा रहित एवं आध्यात्मिक स्तर ६० प्रतिशत से अधिक है, ऐसे साधकों के लिए उपयोगी है ।

अत्यधिक तीखे अन्न का सेवन करने से होनेवाले शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक परिणाम

हरी मिर्च और लाल मिर्च, ये दोनों पदार्थ प्रत्यक्ष में भारतीय नहीं हैं, तब भी भारतीय भोजन से वे इतने समरस हो गए हैं कि चटपटे अन्न का विचार करने पर सर्वप्रथम भारतीय भोजन ही आंखों के सामने आता है ।

परात्‍पर गुरु डॉ. आठवलेजी की देह तथा उनके उपयोग में अंतर्भूत वस्‍तुआें पर गुलाबी आभा आना

‘परात्‍पर गुरु डॉक्‍टरजी की त्‍वचा, नख एवं केश जिस प्रकार पीले हो रहे हैं, उसके साथ ही उनकी आंखों का अंदरूनी भाग, हाथ-पैर के अंदरूनी भाग, तथा जीभ और होंठ भी गुलाबी हो रहे हैं । यह परात्‍पर गुरु डॉक्‍टरजी में व्‍याप्‍त ईश्‍वर की सर्वव्‍यापक प्रीति के रंग का आविष्‍कार है ।

विविध विकारों पर उपचार करनेवाले संगीत के रागों का, उस विकार से पीडित और आध्यात्मिक पीडा से ग्रस्त व्यक्तियों पर होनेवाले परिणाम का अध्ययन करने हेतु प्रयोग

इस विश्‍व में कुछ घटक आंखों से देख सकते हैं, तो कुछ देख नहीं सकते । ‘जो घटक आंखों से दिखाई नहीं देते, उनका अस्‍तित्‍व ही नहीं’, ऐसा नहीं है, उदा. वायु आंखों से दिखाई नहीं देती, अर्थात ‘वह नहीं है’, ऐसा नहीं है ।

महर्षि अध्‍यात्‍म विश्‍वविद्यालय द्वारा अब तक संगीत के संदर्भ में किए गए विविध प्रयोग

‘भारतीय संगीत का व्‍यक्‍ति, प्राणी तथा वातावरण पर क्‍या परिणाम होता है ?’, इसके संदर्भ में ६०० से अधिक विविध प्रयोग किए गए हैं तथा अभी भी यह शृंखला चल रही है ।

रसोई बनाते समय पदार्थ में मिर्च का उपयोग अत्‍यल्‍प मात्रा में करें !

‘पूर्वकाल की गृहिणियां सात्त्विक थीं । उनके आचार-विचार सात्त्विक थे, इसलिए उनकी बनाई रसोई सात्त्विक और स्वादिष्ट लगती थी । अपनी दादी के हाथ की बनी सात्त्विक रसोई आज भी अनेक लोगों को स्मरण है । वर्तमान विज्ञानयुग में मानव का जीवन अत्यंत भागदौड से भरा और तनावपूर्ण हो गया है ।

देवता को भावपूर्ण भोग चढाकर उसे ‘प्रसाद’ के भाव से ग्रहण करने पर व्यक्ति को मिलनेवाले आध्यात्मिक लाभ !

‘हिन्‍दू धर्म में देवता को भोग चढाकर उसे प्रसाद के रूप में ग्रहण किया जाता है । ‘देवता को भोग चढाकर उसे प्रसाद के रूप में ग्रहण करनेवाले व्‍यक्‍ति पर आध्‍यात्मिक दृष्‍टि से क्‍या परिणाम होता है ?’ परीक्षण में प्राप्‍त निरीक्षणों का विवेचन, उनसे प्राप्‍त निष्‍कर्ष और उनका अध्‍यात्‍मशास्‍त्रीय विश्‍लेषण आगे दिया गया है ।

३१ दिसंबर की रात को ‘न्यू ईयर पार्टी’ द्वारा नववर्ष का स्वागत करनेवालों पर वहां के वातावरण का हुआ नकारात्मक परिणाम

३१ दिसंबर की रात ‘न्‍यू ईयर पार्टी’ द्वारा नववर्ष का स्‍वागत करनेवालों पर वहां के वातावरण का आध्‍यात्मिक दृष्‍टि से क्‍या परिणाम होता है ?’, विज्ञान के माध्‍यम से इसका अध्‍ययन करने के लिए ‘महर्षि अध्‍यात्‍म विश्‍वविद्यालय’ की ओर से एक परीक्षण किया गया ।