परात्पर गुरु डॉ. आठवलेजी के ओजस्वी विचार

अधिकांश समाचार पत्र केवल समाचार देने के अतिरिक्त और क्या करते हैं ? इसके विपरीत ‘सनातन प्रभात’ राष्ट्र एवं धर्म कार्य करने हेतु प्रोत्साहित करता है।

परात्पर गुरु डॉ. आठवलेजी के ओजस्वी विचार

‘स्वतंत्रता से अभी तक भारत में राज्य करनेवाले किसी भी राजनीतिक दल ने जनता को साधना सिखाकर सात्त्विक नहीं बनाया । इस कारण भारत में प्रतिदिन अनेक प्रकार के सहस्रों अपराध हो रहे हैं ।’

कहां नोबेल पुरस्कार प्राप्त करनेवाले और कहां ऋषि-मुनि !

‘नोबेल पुरस्कार प्राप्त करनेवालों के नाम कुछ वर्षों में ही भुला दिए जाते हैं; परंतु धर्मग्रंथ लिखनेवाले वाल्मीकि ऋषि, महर्षि व्यास वसिष्ठ ऋषि इत्यादि के नाम युगों- युगों तक चिरंतन रहते हैं ।’ – (परात्पर गुरु) डॉ. आठवले

पश्चिमी संस्कृति को स्वीकारकर विनाश की खाई में बढता समाज !

हिन्दुओं ने पश्चिमी संस्कृति को अपनाया, इस कारण २ पीढियों में अर्थात माता-पिता एवं बेटे-बहू भी एक-दूसरे के साथ समरस नहीं हो सकते ।

राष्ट्रघाती अहिंसावाद !

‘असुरों से लडनेवाले देवता, साथ ही युद्ध में शत्रु को पराजित कर रामराज्य स्थापित करनेवाले प्रभु श्रीराम और श्रीकृष्ण को अहिंसावादी मूर्ख मानते हैं क्या ? अहिंसावाद के कारण ही देश सभी क्षेत्रों में रसातल पर पहुंच गया है ।’ – (परात्पर गुरु) डॉ. आठवले

हिन्दुओं द्वारा पश्चिमी जीवनशैली का अंधानुकरण करने का परिणाम !

‘वर्तमान काल में प्रत्येक भारतीय को महंगाई, भ्रष्टाचार, आतंकवाद और असुरक्षितता जैसी अनेक समस्याओं का निरंतर सामना करना पड रहा है और ये दिन-प्रतिदिन बढती जा रही हैं ।

शोधकर्ताओं को अध्यात्म न समझने का कारण !

‘अध्यात्म मन एवं बुद्धि के परे है । मनोलय एवं बुद्धिलय होने पर वास्तविक अर्थों में अध्यात्म में प्रवेश होता है । इसलिए मन एवं बुद्धि के स्तर पर रहनेवाले शोधकर्ताओं को अध्यात्म समझ में नहीं आता ।’ – (परात्पर गुरु) डॉ. आठवले

अहिंसावादी भुला दिए जाएंगे !

‘संघर्ष कर हिन्दू राष्ट्र की स्थापना करनेवाले छत्रपति शिवाजी महाराज का नाम इतिहास में युगों-युगों के लिए अजर-अमर हो जाएगा; जबकि अहिंसावादियों का नाम ४०-५० वर्षों में पूर्णत: भुला दिया जाएगा ।’ – (परात्पर गुरु) डॉ. आठवले

अध्यात्म की श्रेष्ठता !

‘विज्ञान माया संबंधी विषयों में शोध करता है; जबकि अध्यात्म में ईश्वर, ब्रह्म इत्यादि के विषय में शोध किया जाता है ।’ – (परात्पर गुरु) डॉ. आठवले