Bharat Gaurav Award : सच्चिदानंद परब्रह्म डॉ. जयंत आठवलेजी के अद्वितीय कार्य का फ्रान्सीसी संसद में ‘भारत गौरव’ पुरस्कार देकर सम्मान !

फ्रान्स की संसद में भव्य समारोह !
श्रीसत्शक्ति (श्रीमती) बिंदा सिंगबाळजी और श्रीचित्शक्ति (श्रीमती) अंजली गाडगीळजी ने स्वीकार किया पुरस्कार

Bharat Gaurav Award : सनातन संस्था के संस्थापक सच्चिदानंद परब्रह्म डॉ. जयंत आठवलेजी को घोषित किया गया ११ वां ‘भारत गौरव पुरस्कार !’

‘संस्कृति युवा संस्था’ की ओर से ५ जून को फ्रांस की संसद में होगा सम्मान !

रामनाथी (गोवा) स्थित सनातन संस्था के आश्रम में ३ दिनों का ‘चंडी याग’ !

सच्चिदानंद परब्रह्म डॉ. आठवलेजी का ८२ वा जन्मोत्सव !

‘ब्रह्मोत्सव’ के अवसर पर सच्चिदानंद परब्रह्म डॉ. आठवलेजी जिस रथ में विराजमान थे, उस रथ को खींचने की सेवा करनेवाले साधकों द्वारा उनके चरणों में समर्पित अनुभूतिरूपी कृतज्ञतापुष्प !

‘जिस प्रकार किसी मंदिर के रथ को वहां के सेवक खींचते हैं, उसी प्रकार साधकों ने श्रीमन्नारायण का रथ खींचे’, सप्तर्षि की इस आज्ञा के अनुसार साधकों ने साक्षात भगवान का यह रथ खींचा ।

सच्चिदानंद परब्रह्म डॉ. आठवलेजी के ब्रह्मोत्सव हेतु दिव्य रथ बनाते समय साधकों द्वारा भावपूर्ण पद्धति से किए गए परिश्रम की छायाचित्रमय क्षणिकाएं

इस दिव्य रथ को साकार करते समय अनेक शुभचिंतकों ने भी स्वयंप्रेरणा से सहायता की । श्रीसत्शक्ति (श्रीमती) बिंदा सिंगबाळजी एवं श्रीचित्शक्ति (श्रीमती) अंजली गाडगीळजी ने भी समय-समय पर मार्गदर्शन किया ।

वर्ष २०२३ के सच्चिदानंद परब्रह्म डॉ. आठवलेजी के ब्रह्मोत्सव हेतु रथ बनाने की पृष्ठभूमि !

रथोत्सव संपन्न होने के उपरांत हमने प.पू. गुरुदेवजी से पूछा, ‘‘इस रथ को वापस भेजने के लिए मन तैयार नहीं हो रहा है । क्या हम इस रथ को रख लें ?’’ उस समय प.पू. गुरुदेवजी ने कहा, ‘‘इस रथ को वापस भेजना है न, तो भेजेंगे । आगे जाकर भगवान की इच्छा हो, तो हमारा अपना रथ तैयार होगा ।’’

‘सच्चिदानंद परब्रह्म डॉ. जयंत आठवलेजी का ८२ वां जन्मोत्सव’ विशेषांक

इस माह के अंतिम सप्ताह में सच्चिदानंद परब्रह्म डॉ. आठवलेजी का ८२ वां जन्मोत्सव मनाया जानेवाला है । इस निमित्त पिछले वर्ष के जन्मोत्सव के कुछ अविस्मरणीय क्षण हम इस विशेषांक में अनुभव करेंगे ।

साधको, दास्यभाव के प्रतीक रामभक्त हनुमानजी की भांति अंतर में सेवकभाव उत्पन्न कर स्वयं में विद्यमान अहं का निर्मूलन करने का प्रयास करें !

साधको, प्रभु श्रीरामचंद्रजी के रामराज्य के कार्य से संपूर्ण रूप से एकरूप हनुमानजी का आदर्श अपने सामने रखें तथा परात्पर गुरु डॉक्टरजी के हिन्दू राष्ट्र की स्थापना के कार्य में स्वयं को समर्पित करें !

वाहन की दुर्घटना रोकने के लिए साधकों द्वारा बरती जानेवाली सावधानी एवं यात्रा में दुर्घटना टालने हेतु उपयोग किया जानेवाला ‘दुर्घटना निवारण यंत्र’ !

वर्तमान में आपातकाल की तीव्रता तथा अनिष्ट शक्तियों के आक्रमण बढते ही जा रहे हैं । इसलिए साधक दोपहिया तथा चारपहिया वाहन चलाते समय निम्नानुसार आवश्यक सावधानी बरतें

विश्व की समस्याएं कट्टर धर्मांधों के कारण निर्माण हो रही हैं, श्रद्धा के कारण नहीं ! – दाजी, ‘हार्टफुलनेस’

 ‘हार्टफुलनेस’ नामक आध्यात्मिक संस्था के मार्गदर्शक दाजी (कमलेशजी पटेल) ने उद्‌बोधन करते हुए कहा, ‘विश्व देख रहा है कि संकुचित श्रद्धा एवं पंथ लोगों में फूट डाल रहे हैं ।