कर्नाटक में बनाए जा रहे संस्कृत विश्वविद्यालय को कांग्रेस और जिहादी आतंकी संगठन पी.एफ्.आई. का विरोध !

कर्नाटक कांग्रेस के प्रवक्ता ने संस्कृत विश्वविद्यालय को ‘बेकार’ कहा !
पी.एफ्.आई. के सदस्य की ओर से संस्कृत का ‘विदेशी भाषा’ बोलकर उल्लेख ! 

कर्नाटक मे हिंदू मछवारोंपर तलवारों से हमला करनेवाले पापुलर फ्रंट आफ इंडिया के कार्यकर्ताओं को हथकडी !

कर्नाटक मे भाजप का राज होने के बावजूद वहा के हिंदूओं पर जिहादी संगठन के कार्यकर्ताओं ने इस प्रकार का आक्रमण करना हिंदुओं को अपेक्षित नही !

कक्षा दो की हिन्दू विद्यार्थी ने गणित का प्रश्न हल न करने पर सजा के रुप में उसे अल्लाह की प्रार्थना करने को कहा !

इस घटना के विषय का वीडियो बनाकर प्रसारित करने के बाद विद्यालय की ओर से विद्यार्थी के अभिवावकों के विरोध में पुलिस में शिकायत दर्ज

कर्नाटक के एक सरकारी महाविद्यालय में हिजाब (सिर ढंकने का कपडा) पहनने की अनुमति होने से वहां के हिन्दू छात्र गले में भगवा रूमाल धारण करेंगे !

कोप्पा जनपद के बालागडी गांव में स्थित सरकारी महाविद्यालय में मुसलमान छात्राओं को यदि हिजाब पहनने की अनुमति दी जाती हो, तो हिन्दू छात्रों को गले में भगवा रूमाल धारण करने में भी कोई आपत्ति नहीं होनी चाहिए । वहां के छात्रों ने यह सूत्र उपस्थित किया है ।

रामनगर (कर्नाटक) में ‘कर्नाटक राज्य संस्कृत विश्वविद्यालय’ स्थापित किया जाएगा !

ऐसे संस्कृत विश्वविद्यालय राज्य के प्रत्येक जनपद में होने चाहिए । इसके लिए, प्रत्येक राज्य एवं केंद्र सरकार को प्रयास करने चाहिए ; ऐसा धर्मप्रेमी हिन्दुओं को लगता है !

कर्नाटक में इस्लामिक स्टेट से जुडी महिला जिहादी आतंकी बंदी !

महिला आतंकवादी कांग्रेस के स्वर्गीय भूतपूर्व विधायक की पुत्रवधू !
महिला आतंकवादी पूर्व में हिन्दू थी तथा उसने धर्मांतरण किया है !

बागलकोट (कर्नाटक) यहां हिन्दू विद्यार्थियों का धर्म परिवर्तन किए जाने की शिकायत के बाद सेंट पॉल विद्यालय प्रशासन की ओर से बंद

शिकायत के बाद तत्परता से ऐसा निर्णय लेने वाले कर्नाटक प्रशासन का अभिनंदन ! ऐसी तत्परता सभी ओर होनी चाहिए और उसमें भी किसी के द्वारा शिकायत करने की अपेक्षा प्रशासन को सतर्क रहकर ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए तुरंत कार्यवाही करनी चाहिए !

उडुपी (कर्नाटक) के सरकारी महाविद्यालय की कक्षाओं में ‘हिजाब’ पर (सिर ढकने के कपडे पर) प्रतिबंध

कहां महाविद्यालयों में हिजाब पर प्रतिबंध लगाने पर उसका विरोध करने वाले मुसलमान, तो कहां कॉन्वेंट विद्यालयों में चूडियां, कुमकुम, मेंहदी आदि धार्मिक बातों पर प्रतिबंध लगाने पर निष्क्रिय रहने वाले हिन्दू !