सेलम (तमिलनाडु) शहर के श्री वेणुगोपाल कृष्णस्वामी मंदिर की भूमि पर से अतिक्रमण हटाएं ! – मद्रास उच्च न्यायालय

सालेम में श्री वेणुगोपाल कृष्णस्वामी मंदिर की भूमि पर हुआ अतिक्रमण हटाने का आदेश मद्रास उच्च न्यायालय ने तहसीलदाराें को दिया ।

कानपुर (उत्तरप्रदेश) में मोहरम के जुलूस के उपरांत श्री हनुमान मूर्ति की तोडफोड !

उत्तरप्रदेश में भाजपा की सरकार होते हुए भी ऐसी घटनाओं का होना हिन्दुओं को अपेक्षित नहीं !

बांग्लादेश में मंदिरों पर आक्रमण कर श्री कालीमाता तथा श्रीगणेश की प्रतिमाओं को किया ध्वस्त

यह बात पुनः एक बार स्पष्ट है कि मदरसा के छात्र सीखते क्या हैं ? तथा वे करते क्या हैं ? इस घटना के विषय में भारत सरकार बांग्लादेश को कब उत्तर पूछेगी ?

पाक का १ सहस्र २०० वर्ष पूर्व का हिन्दु मंदिर हुआ अतिक्रमणमुक्त !

भारत में किसी चर्च अथवा मस्जिद पर हिन्दू स्वप्न में भी अवैध कब्जा करने का कभी विचार भी करेगा क्या ?

वाराणसी (उत्तरप्रदेश) में एक गांव के शिवमंदिर में शिवपिंडी की अज्ञातों द्वारा तोडफोड

उत्तरप्रदेश में भाजपा की सरकार होते हुए इस प्रकार की घटनाएं न हों, ऐसा हिन्दुओं को लगता है ! इसके लिए जो उत्तरदायी हों, उनकी खोज कर आजन्म कारावास का दंड दिलाने के लिए सरकार को प्रयत्नशील होना चाहिए !

डोडा (जम्मू-कश्मीर) – यहां के शिवमंदिर में भगवान शिव की मूर्ति की अज्ञातों द्वारा तोडफोड !

कश्मीर की समस्या धार्मिक होने के कारण जब तक उसके मूल पर आघात करके उसे जड से समाप्त नहीं किया जाता, तब तक यह समस्या बनी रहेगी !

धर्मकार्य में पैर जमाकर खडे रहना आवश्यक – अधिवक्ता भारत शर्मा, संरक्षक, धरोहर बचाओ समिति, राजस्थान

‘‘जिस प्रकार अंगद ने रावण की राजसभा में स्वयं भूमि पर पैर जमाया, उसी प्रकार हिन्दुत्वनिष्ठों को धर्मकार्य करने के लिए पैर जमाकर खडे रहना चाहिए, तभी जाकर हम हिन्दू राष्ट्र की स्थापना में महत्त्वपूर्ण योगदान दे सकते हैं’’, ऐसा प्रतिपादन अधिवक्ता भारत शर्मा ने किया ।

कानून में स्थित त्रुटियों के कारण न्यायालयीन निर्णयों से सच्चाई नहीं बाहर आती ! – अधिवक्ता मकरंद आडकर, अध्यक्ष, महाराष्ट्र शैक्षणिक एवं सांस्कृतिक संस्था, नई देहली

‘दार-उल-इस्लाम’ धर्मांधों की संकल्पना है इसलिए उन्हें भारतभूमि को ‘गजवा-ए- हिंद’ बनाना है । अत: धर्मांधों द्वारा ‘लैंड जिहाद’ का षड्यंत्र रचा जा रहा है । यह रोकने के लिए ‘सब भूमी गोपाल की’ अर्थात ‘सब भूमि हमारी है’, यह तत्त्व मन में बिंबित करना होगा ।

हिन्दुओं के मंदिरों का पैसा हिन्दू हित के लिए ही प्रयोग किया जाना चाहिए ! – विश्व हिन्दू परिषद

भारत की शासन व्यवस्था शरीयत कानून के अनुसार नहीं, अपितु संविधान द्वारा चलती है !