‘महर्षि अध्यात्म विश्वविद्यालय’ के अंतर्गत कार्यान्वित होनेवाले ग्रंथालय से संबंधित सेवा में सम्मिलित हों !

महर्षि अध्यात्म विश्वविद्यालय के ग्रंथभंडार में ३५ सहस्र से अधिक मुद्रित ग्रंथ और १ लाख से अधिक ‘ई-बुक्स’ हैं तथा उसमें प्रतिदिन अनेक ग्रंथों की वृद्धि हो रही है । इसलिए इन ग्रंथों से संबंधित आगे की सेवा करने के लिए रामनाथी, गोवा के आश्रम में मानव संसाधन की आवश्यकता है ।

ग्रंथलेखन का अद्वितीय कार्य करनेवाले एकमात्र परात्पर गुरु डॉ. जयंत आठवलेजी !

हिन्दू राष्ट्र-स्थापना हेतु प्रयास करना कालानुसार आवश्यक समष्टि साधना ही है । इसके संदर्भ में समाज का मार्गदर्शन होने हेतु परात्पर गुरु डॉक्टरजी ने ‘ईश्वरीय राज्य की स्थापना’, ‘हिन्दू राष्ट्र क्यों आवश्यक ?’, ‘हिन्दू राष्ट्र : आक्षेप एवं खण्डन’ जैसे समष्टि साधना सिखानेवाले ग्रंथों की रचना की ।

परात्पर गुरु डॉ. जयंत आठवलेजी के अव्यक्त संकल्प के कारण गत एक वर्ष में विविध भाषाओं में सनातन के ३० नए ग्रंथ-लघुग्रंथ प्रकाशित और ३५७ ग्रंथ-लघुग्रंथों का पुनर्मुद्रण !

‘हिन्दू राष्ट्र’ धर्म के आधार पर ही स्थापित होगा । धर्मप्रसार के कार्य में ज्ञानशक्ति, इच्छाशक्ति और क्रियाशक्ति में से ज्ञानशक्ति का योगदान सर्वाधिक है । ज्ञानशक्ति के माध्यम से कार्य होने का सर्वाधिक प्रभावी माध्यम हैं ‘ग्रंथ’ ।

देवताओं की उपासना हेतु प्रेरित करनेवाली सनातन की ग्रंथमाला !

स्तोत्र में देवता की स्तुति सहित पाठ करनेवालों के सर्व ओर सुरक्षा-कवच निर्माण करने की शक्ति भी होती है । स्तोत्रों की फलश्रुति के संदर्भ में रचयिता के संकल्प के कारण, स्तोत्रपाठ से इच्छापूर्ति, वैभव, पापनाश आदि फलप्राप्ति होती है !

आहार का अध्यात्मशास्त्रीय आधार समझानेवाले सनातन के ग्रंथ

आदर्श आहार एवं आहारसेवन के नियम समझने हेतु पढें सात्त्विक आहारका महत्त्व आहारके प्रकार एवं देहपर उसके प्रभाव क्या हैं ? ‘शाकाहार ही धर्मपालन’ होनेका कारण क्या है ? शाकाहारकी आलोचनाओंका खण्डन कैसे करें ? असात्त्विक आहारके दुष्परिणाम मनुष्यके लिए मांसाहार वर्जित होनेके विविध कारण संसारके सर्व धर्माेंद्वारा किया गया मद्यपानका विरोध मांस-मद्य सेवनसे होनेवाली … Read more

ग्रंथमाला : आचारधर्म (हिन्दू आचारोंका अध्यात्मशास्त्र)

आनंदमय जीवन व्यतीत करते हुए मनुष्य ईश्वरप्राप्ति की दिशा में आगे बढे, इसके लिए हिन्दू धर्म में विविध आचार बताए गए हैं। काल के प्रवाह में हिन्दू इन आचारों को भूल गए, इसलिए उनका अध:पतन हो रहा है। इस अध:पतन को रोकने हेतु यह ग्रंथमाला पढें।

ग्रंथमाला : देवताओंकी उपासना एवं उसका अध्यात्मशास्त्र

देवताकी विशेषताएं एवं कार्य पता चलनेपर देवताकी महिमा समझमें आती है । देवताकी उपासनाका शास्त्र समझमें आनेपर देवताकी उपासनासम्बन्धी श्रद्धा बढती है । श्रद्धासे उपासना भावपूर्ण होती है एवं भावपूर्ण उपासना ही अधिक फलदायी होती है ।

अपने बच्चोंको भविष्यके आदर्श नागरिक बनाएं !

आजके बच्चे कलके आदर्श भारतके शिल्पकार हैं ! पश्चिमके अन्धानुकरण एवं ‘टीवी’के अतिरेकसे भटक रही आजकी पीढीको सुसंस्कारी एवं आदर्श बनानेका मार्ग है ग्रन्थमाला ‘बालसंस्कार’ !

राष्ट्र एवं धर्म प्रेमी बनो !

बच्चों के मन में स्वदेश, स्वधर्म आदि संबंधी प्रेम बढाकर इस संदर्भ में उनके कर्तव्य बतानेवाला सनातन का ग्रंथ !

बुद्धि, उसकी निर्भरता एवं उत्पत्ति की सीमा

सर्वाेत्तम शिक्षा क्या है ? पू. डॉ. शिवकुमार ओझाजी (आयु ८७ वर्ष) ‘आइआइटी, मुंबई’ में एयरोस्पेस इंजीनियरिंग में पीएचडी प्राप्त प्राध्यापक के रूप में कार्यरत थे। उन्होंने भारतीय संस्कृति, अध्यात्म, संस्कृत भाषा इत्यादि विषयों पर ११ ग्रंथ प्रकाशित किए हैं । उसमें से ‘सर्वाेत्तम शिक्षा क्या है ?’ नामक हिंदी ग्रंथ का विषय यहां प्रकाशित … Read more