बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में कुलपति द्वारा आयोजित इफ्तार पार्टी के कारण छात्रों में प्रचंड आक्रोश !

यह निश्चित है, कि हिन्दुओं में आत्मघाती धर्मनिरपेक्षता एक दिन उन्हें विनाश की खाई में धकेलेगी !

प्रभू श्रीरामचंद्रजी के बारे में आपत्तिजनक वक्तव्य करने के कारण पंजाब विश्वविद्यालय द्वारा प्राध्यापक को पद से हटाया गया !

यदि प्राध्यापक ही हिंदुओं के देवताओं के विषय में आपत्तिजनक वक्तव्य करेंगे, तो छात्रों पर उसका क्या परिणाम होगा, इस के बारे में विचार न करें तो ही अच्छा !

सीबीएसई ने पाठ्यक्रम से इस्लामी साम्राज्य, शीतयुद्ध इत्यादि अध्याय निकाल दिए !

यद्यपि इस परिवर्तन का हम स्वागत करते हैं, तब भी सीबीएसई (CBSE) को एक कदम आगे बढाकर इस्लामी आक्रमकों का क्रूर इतिहास नई पीढी को बताना आवश्यक है ।

युक्रेन से वापस लौटे चिकित्सकीय शाखा के १६ सहस्र छात्रों को भारत के चिकित्सकीय महाविद्यालयों में प्रवेश देने का सरकार का विचार !

केंद्र सरकार फॉरेन मेडिकल ग्रैज्यएट लाइसेन्शिएट रेग्युलेशन (एफ्.ए.एम्.जी.एल्.) एक्ट में बदलाव करने पर विचार कर रही है ।

उडुपी (कर्नाटक) के एक और महाविद्यालय में हिजाब पर प्रतिबंध

कर्नाटक के गृहमंत्री अरागा ज्ञानेंद्र ने कहा कि किसी भी शिक्षा संस्था में शिक्षा को धर्म से दूर रखना चाहिए । यहां पढनेवाले विद्यार्थी हिजाब अथवा भगवा उपरना पहनकर न आएं । वे उनके धर्म का पालन करने के लिए विद्यालय में न आएं । विद्यालय ज्ञानमंदिर है तथा यहां शिक्षा ग्रहण करने के उद्देश्य से आना चाहिए ।

क्या बुद्धि शिक्षा का विधि विधान निश्चय कर सकती है ?

आजकल मनोराज्य का अधिक बोल-बाला है । मनुष्य का अंतर्मन समझता है कि उसका ही विचार ठीक है । मनुष्य अपनी वासनाओं के विषयों (रूप, रस, गंध, श्रवण और स्पर्श) एवं ज्ञान का मनोनुकूल भोग चाहता है। ऐसी स्थिति में विविध निर्णयों या क्रिया-कलापों के विषय में वाद-विवादों का होना कोई आश्चर्य की बात नहीं है ।

मानवी बुद्धि एवं पारमार्थिक तथ्य !

तीनों कालों में जिस वस्तु का निषेध (मनाही) नहीं होता है, वह पारमार्थिक कहलाती है । ‘पारमार्थिक’ शब्द का मतलब होता है परमार्थ (परम अर्थ) संबंधी । परम अर्थ का मतलब होता है नाम, रूप आदि से परे, अर्थात संसार के परे ।

अनेक विषयों के बारे में बुद्धि की अनभिज्ञता !

विस्मयकारी घटनाओं को समझ पाना कठिन जगत के विस्मयकारी (आश्चर्यजनक) अनेक कार्यों तथ्यों या निष्कर्षो को मनुष्य की बुद्धि के लिए समझ पाना संभव नहीं है उदाहरण के लिए जैसे शक्तिपात का होना, चमत्कारों का दिखाई देना, सिद्धियों का प्राप्त होना इत्यादि ।

एनसीईआरटी ने विद्यालयीन पाठ्यपुस्तकों में राष्ट्रीय पुरुषों के चरित्र का भारी मात्रा में विकृतीकरण किया !

विविध माध्यमों द्वारा एनसीईआरटी द्वारा शिक्षा का विकृतीकरण अनेक बार उजागर होते हुए भी उसे विसर्जित क्यों नहीं किया गया ?