(कहते हैं) ‘उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव पूर्व भाजपा और संघ किसी बडे़ हिन्दू नेता की हत्या कर सकते हैं !’

किसान आंदोलन को केंद्र सरकार ने महत्व ना देने से टिकैत अब निराश हो गए हैं । उनका धैर्य अब टूटने लगा है । इस कारण वे इस प्रकार का दावा करने लगे हैं, यही इससे ध्यान में आता है !

धारा ३७० रद्द किए जाने के बाद से जम्मू-काश्मीर में भाजपा के २३ नेता और कार्यकर्ताओं की हत्या !

केंद्र में भाजपा की सरकार होते हुए जम्मू-काश्मीर में इतनी बडी मात्रा में अपनी पार्टी के नेता और कार्यकर्ताओं की हत्या होना अपेक्षित नहीं । काश्मीर की स्थिति बदलने के लिए अधिक कठोर निर्णय और कृति करने की आवश्यकता है !

खूनी कांग्रेस को दंड दें !

प्रसिद्ध लेखक और इतिहासकार विक्रम संपत द्वारा प्रसिद्ध अंग्रेजी समाचार वाहिनी ‘टाइम्स नाऊ’ पर पत्रकार नाविका कुमार से की गई चर्चा में वीर सावरकर के विषय में, साथ ही गांधीहत्या के उपरांत महाराष्ट्र में किए गए ब्राह्मण विरोधी दंगो की जानकारी भी दी गई ।

जम्मू में भाजपा नेता के घर पर हुए ग्रेनेड हमले में ३ वर्ष के बच्चे की मृत्यु हो गई !

जम्मू-कश्मीर में जिहादी आतंकवाद को नष्ट करने के लिए पाकिस्तान को नष्ट करें !

भाजपा के नेता को मेडक (तेलंगाना) में चार पहिया वाहन की डिक्की में बंद कर जीवित जलाया !

तेलंगाना राज्य में तेलंगाना राष्ट्र समिति की सरकार में कानून-व्यवस्था की धज्जियां !

गुप्तचर विभाग और केंद्रीय जांच ब्यूरो, न्यायपालिका को सहायचा नहीं करते ! – उच्चतम न्यायालय की फटकार !

गुप्तचर विभाग और केंद्रीय जांच ब्यूरो (सी.बी.आई.) न्यायपालिका की बिल्कुल भी सहायता नहीं कर रहे हैं । न्यायाधीश शिकायत करते हैं, तब वे प्रतिसाद ही नहीं देते, ऐसा उच्चतम न्यायालय ने कहा ।

बेलगांव (कर्नाटक) में धर्मांध द्वारा एकपक्षीय (एकतरफा) प्रेम में एक अवयस्क हिन्दू लडकी की हत्या !

यहां हारुगेरी गांव में तेरदाळ-हारुगेरी मार्ग पर २० वर्षीय युवक आमिर जामदार ने एक अवयस्क हिन्दू लडकी की चाकू भोंक कर हत्या कर दी ।

वाराणसी में कट्टरपंथी प्रेमी द्वारा हिन्दू युवती के पिता की हत्या !

वाराणसी में अभी हाल ही में एक चौंकाने वाली घटना सामने आई है, जिसमें एक युवती ने कट्टरपंथी युवक के साथ विवाह करने के लिए पिता के नकार देने के कारण उनकी हत्या में सहायता की ।

धनबाद में जिला एवं सत्र न्यायाधीश की हत्या ही है ! – सगे संबंधियों का आरोप

झारखंड में दिनदहाड़े न्यायाधीश की हत्या हाेना, यह पुलिस और झारखंड मुक्ति मोर्चा के नेतृत्व वाली गठबंधन सरकार के लिए लज्जास्पद !