पाकिस्तान के सिंध में हिन्दू व्यवसायी की गोली मारकर हत्या !

पाकिस्तान के सिंध प्रांत के अनाज मंडी क्षेत्र में, अज्ञात आक्रमणकारियों ने ४४ वर्षीय हिन्दू व्यवसायी सुनील कुमार की गोली मारकर हत्या कर दी ।

बांगलादेश में वर्ष २०२१ में २७३ मंदिरों पर आक्रमण, तो १५२ हिन्दुओं की हत्या !

हिन्दुओं पर १ सहस्र ८९८ बार आक्रमण
हिन्दुओं के देवताओं की २ सहस्र १३० मूर्तियों की तोडफोड
४११ हिन्दू महिलाओं पर बलात्कार

बिजनौर (उत्तर प्रदेश) में पुजारी की हत्या के आरोप में कट्टरपंथी को बंदी बनाया गया !

यहां १० दिसंबर की रात, जय महाकाली मंदिर के पुजारी रामदास (६० वर्षीय) की हत्या कर दी गई । पुलिस ने हत्या के प्रकरण में मोहम्मद जीशान को बंदी बनाया है । पुलिस ने कहा कि जीशान ने पुजारी से सट्टा जीतने का नंबर निकलवाया था ।

केरल में भाजपा नेता रंजीत श्रीनिवासन की हत्या के मामले में एस.डी.पी.आई. के ५ कार्यकर्ताओं को हिरासत

भाजपा के ओबीसी मोर्चा के राज्य सचिव रंजीत श्रीनिवासन की हत्या के मामले में पुलिस ने जिहादी संगठन पापुलर फ्रंट ऑफ इंडिया की राजनीतिक शाखा सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया (एस.डी.पी.आई. के) ५ कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया है ।

कपूरथला (पंजाब) में ‘निशान साहिब’ की अवहेलना करने वाले की पिटाई !

क्या पंजाब में आगामी विधानसभा चुनाव को देखते हुए जानबूझ कर ऐसी घटनाएं की जा रही हैं ? केंद्र सरकार को उसकी खोज करनी चाहिए  !

रांची (झारखंड) में विश्व हिन्दू परिषद के नेता की गोली मारकर हत्या

अन्य समय में आधुनिकतावादी और धर्मनिरपेक्षतावादियों की हत्या होने पर अत्यधिक शोर करने वाले संगठन और पुरस्कार वापस करने वाला समूह हिन्दुत्वनिष्ठों की हत्या होने पर एक भी शब्द निकालते नहीं, यह ध्यान दें !

जम्मू कश्मीर में पिछले ३१ वर्षों में केवल १ सहस्र ७२४ लोगों की हत्या ! – जानकारी के अधिकार में श्रीनगर पुलिस द्वारा दी जानकारी

इस जानकारी पर भारत का एक भी हिन्दू विश्वास कर सकता है क्या ? इस प्रकार की जानकारी देकर श्रीनगर पुलिस आतंकवादियों के अत्याचारों को छुपाने का प्रयास कर रही है क्या ? ऐसा प्रश्न सामने आता है !

जालोर (राजस्थान) में चोरी के उद्देश्य से मंदिर के वृद्ध पुजारी की हत्या

चाहे किसी भी दल की सरकार हो, वह पुजारी, साधु, संतों की सुरक्षा करने में सदैव ही असफल होती है । यह स्थिति हिन्दू राष्ट्र की अनिवार्यता स्पष्ट करती है ।

बांग्लादेश के हिन्दुओं की दयनीय स्थिति !

‘वर्ल्ड हिन्दू फेडरेशन बांग्लादेश’ शाखा की जानकारी यह है कि १३ से १७ अक्टूबर इन ५ दिनों में ३३५ मंदिरों की तोडफोड की गई । हिन्दुओं के १ सहस्र ८०० घर जलाएं गए । बांग्लादेश के कॉमिला, जानपुर, नौखाली, वडगाव बाजार, नवाबगंज, रंगपुर में सबसे अधिक आक्रमण किए गए ।

अररिया (बिहार) के गांव में, गोवंश चुरानेवालों में से एक व्यक्ति की मारपीट में मृत्यु !

गोवंश चुरानेवालों के पास बंदूक जैसे शस्त्र होने से ही ऐसे अपराधों की गहराई ध्यान में आती है। क्या, इन चोरीयों के पीछे गोहत्या करनेवालों का कोई गिरोह कार्यरत है ? यह देखकर उन पर कठोर कार्रवाई होनी चाहिए। राष्ट्रीय स्तर पर ही गोहत्या बंदी का कठोर कानून बनना चाहिए, ऐसा हिन्दुओं को लगता है !