अमेरिका का युद्ध समाप्त; भारत का आरंभ !

अफगानिस्तान में तालिबानी अर्थात जिहादी राज्य लागू हुआ है । वर्तमान काल में अफगानिस्तान का प्रत्येक घटनाक्रम भारत की दृष्टि से अत्यंत महत्त्वपूर्ण है; क्योंकि उसका सीधा परिणाम भारत पर होगा ।

जिहादी आतंकवादी संगठन ‘तालिबान’ का इतिहास

तालिबान एक सुन्नी इस्लामी आंदोलन था । उसका आरंभ वर्ष १९९४ में दक्षिण अफगानिस्तान में हुआ । मूल अरबी शब्द ‘तालिब’ से ‘तालिबान’ शब्द बना है । ‘तालिब’ का अर्थ है ‘ज्ञान प्राप्त करने की अपेक्षा और इस्लामी कट्टरतावाद पर विश्वास रखनेवाला विद्यार्थी ।’

इस्लामिक स्टेट के १० सहस्र आतंकवादी तजाकिस्तान और उजबेकिस्तान इन देशों में घुसपैठ करने की तैयारी में !

इस्लामिक स्टेट के १० सहस्र आतंकवादी रशिया में घुसपैठ करने की तैयारी में होने की जानकारी रशिया ने दी है । इन आतंकवादियों का तजाकिस्तान और उजबेकिस्तान देशों में घुसपैठ करने का षडयंत्र है, ऐसा कहा जा रहा है ।

(कहते हैं) भारत इस्लामिक स्टेट के आतंकियों को अपने देश में प्रशिक्षण दे रहा है ! – पाकिस्तान ने लगाया आधारहीन आरोप

इसे कहते हैं ‘उल्टा चोर कोतवाल को डांटे !’

भारत को आतंकियों की मांगों के सामने कभी घुटने नहीं टेकने चाहिए ! – डॉ. सुब्रह्मण्यम् स्वामी, सांसद, भाजपा

हिन्दुओं की संस्कृति और हिन्दुओं का साहस तोडने का आतंकियों का राजनीतिक लक्ष्य है । उन्हें भारत के मुलभूत आधार को ही खोखला बनाना है ; इसलिए, भारत को आतंकियों की मांगों के सामने कभी घुटने नहीं टेकने चाहिएं ।

श्रीनगर में, आतंकवादी आक्रमण में, पुलिस अधिकारी की मृत्यु !

कश्मीर में हो रहा जिहादी आतंकवाद नष्ट करने के लिए पाकिस्तान को नष्ट करें !

केरल की ईसाई लडकियां ‘लव जिहाद’ और ‘नार्कोटिक जिहाद’ के जाल में फंस रही है !

हिन्दुओं के धर्म गुरू और नेताओं द्वारा इसे जिहाद का विषय बोलने पर उन्हें धर्मविरोधी कहकर टिप्पणी करने वाले धर्मनिरपेक्षतावादी, आधुनिकतावादी अब चुप क्यों है ?

Exclusive : तालिबान, भविष्य में कश्मीर पर आक्रमण कर सकता है ! – कोएनराड एल्स्ट, लेखक, बेल्जियम

ऐसा हो, इससे पहले भारत को तालिबान की सहायता करने वाले पाकिस्तान को नष्ट करना होगा !

अफगानिस्तान से काश्मीर में आतंकवाद फैलने का खतरा ! – भारत में रशिया के राजदूत

ऐसा डर लगता है, तो रशिया तालिबान का खुले तौर पर विरोध क्यों नही करता ?

दिल्ली में आतंकी आक्रमण होने की आशंका के कारण बढाई इजरायली दूतावास की सुरक्षा !

६ सितंबर को इजरायली लोग नए वर्ष का स्वागत करते हैं । उस पृष्ठभूमि पर, आक्रमण की संभावना के कारण सुरक्षा बढा दी गई है  ।