गंगा तट पर बने घाटों में, “अहिन्दुओं को प्रवेश नहीं” दर्शानेवाले सूचना पट, बिना किसी शिकायत के पुलिस ने हटाए !

ध्यान दें, कि शिकायत न होने पर भी सूचना पट तत्परता से हटाने वाली पुलिस, हिन्दुओं द्वारा शिकायत करने पर कार्रवाई करने में टाल-मटोल करती  है ! उत्तर प्रदेश में बीजेपी की सरकार होते हुए, हिन्दुओं को ऐसा होने की अपेक्षा नहीं है !  

गया (बिहार) में पिंडदान करने के लिए नगर निगम लेगा ५ रुपए शुल्क 

हिन्दुओं की धार्मिक कृतियों पर ऐसा शुल्क लगाना, अर्थात नया औरंगजेबी ‘जजिया कर’ ही है ! हिन्दू संगठनों को इसका कठोर विरोध करना चाहिए तथा इसे निरस्त करने के लिए बाध्य करना चाहिए !

(कहते हैं) ‘मंदिर यह सरकार की संपत्ति है !’

राज्य के चर्च और मस्जिदें सरकार की संपत्ति नहीं है क्या ? केवल हिन्दुओं के मंदिरों को सरकार की संपत्ति कहने वाले मुगलों के वंशज काँग्रेसियों को ध्यान में रखें और चुनाव के समय सबक सिखाएं !

(कहते हैं) ‘यदि मुसलमान अधिक बच्चों को जन्म नहीं देंगे, तो हमारा समाज भारत पर कैसे राज करेगा !’

संविधान के अनुसार भारत धर्मनिरपेक्ष देश है एवं प्रत्येक राजनीतिक दल इस संविधान का पालन करने की अपनी प्रतिबद्धता की बात करता है । परंतु, एमआईएम धर्मनिरपेक्षता के नाम पर, भारत में मुसलमानों के सत्ता में आने का स्वप्न देख रहा है ; यह बात हिन्दुओं को कब ध्यान में आएगी  ?

१९७१ के युद्ध में, पाक सेना ने मंदिर गिरा कर २५० से अधिक हिन्दुओं की हत्या की थीं !

ध्यान दें, कि पाक सेना के इस हिन्दू-द्वेषी कृत्य के संबंध में भारत का एक भी भारतीय आधुनिकतावादी एवं धर्मनिरपेक्षतावादी कभी भी बात नहीं करता है !

(कहते हैं) ‘मस्जिद के स्थान पर मंदिर बनाने पर वहां ‘अल्ला हु अकबर’ के नारे गूंजेंगे !

इस प्रकार के विधान करने वाले नेताओं वाली पार्टी पर प्रतिबंध लगाना चाहिए ! कर्नाटक के भाजपा की सरकार होने से उन्हें इस हेतु प्रयास करने चाहिए, ऐसा ही हिन्दुओं को लगता है !

गया (बिहार) में एक हिंदू द्वेषी शिक्षिका ने श्रीमद्भागवत गीता और जपमाला को कूडेदान में फेंका !

क्या यह हिंदू द्वेषी शिक्षिका दूसरे संप्रदायों के धर्मग्रंथों को कूडेदान में फेंकने का साहस करेगी ? हिंदुओं को लगता है, कि सरकार उसे बंदी बनाकर कारागृह में डाले !

कृष्ण के जन्मस्थान पर आरती की अनुमति अस्वीकार !

हिन्दुओं को लगता है, कि उत्तर प्रदेश में बीजेपी की सरकार होने के कारण, हिन्दुओं को यह अनुमति मिलनी चाहिए ! 

गुरुग्राम (हरियाणा) में हिंदुओंद्वारा सार्वजनिक रूप से नमाज पढने का पुन: विरोध !

हरियाणा में बीजेपी की सरकार होते हुए, हिंदुओं तथा उनके संगठनों को सार्वजनिक जगहों पर नमाज पढने का निरंतर विरोध करना पडता है तथा पुलिस और प्रशासन इसे रोकने में असफल होता है ; हिंदुओं को ऐसी अपेक्षा नहीं है !

संयुक्त अरब अमिरात की राजकन्या के तीव्र विरोध के कारण ‘जी न्यूज’ के राष्ट्रनिष्ठ संपादक सुधीर चौधरी को कार्यक्रम से हटाया गया !

राजकन्या द्वारा सुधीर चौधरी को ‘असहिष्णु’ और ‘आतंकी’ कहकर अवहेलना !