खंडवा (मध्य प्रदेश) में मोहरम के जुलूस में पुलिस की उपस्थिति में ‘सर तन से जुदा’ की घोषणा !

गांव-गांव में ऐसी घोषणाएं दी जाना, यह स्थिति दर्शाती है कि ‘आनेवाला समय हिन्दुओं के लिए कठिन है’ !

मुसलमान संगठनों के विरोध के पश्चात मंगलुरू विश्वविद्यालय में भारतमाता का पूजन निरस्त !

हिजाब धार्मिक, जबकि भारतमाता राष्ट्रीय अस्मिता का विषय है । यदि कोई उनकी पूजा करता हो, तो इसमें अनुचित क्या है ? जो व्यक्ति भारतमाता को ही न मानता हो, वही इस प्रकार का विरोध करते हैं ! विश्वविद्यालय इस प्रकार के विरोध की बलि न चढें !

महंत बजरंग मुनिजी को भ्रमणभाष पर ‘सर तन से जुदा’ की धमकी !

अब केवल हिन्दुत्वनिष्ठ अथवा उनके समर्थक ही नहीं, अपितु हिन्दुओं के संत-मंहंतों को भी लक्ष्य किया जा रहा है । हिन्दुओं, हिन्दू संतों का कुछ भला-बुरा होने से पूर्व अब तो एकत्रित आकर ‘हिन्दू राष्ट्र’ स्थापित करें !

हिन्दुओं को लक्ष्य किए जाने पर जैसे को तैसा उत्तर देंगे ! – नितेश राणे, नेता, भाजपा

देश में शरीयत कानून लागू नहीं हुआ है । ‘यदि हिन्दुओं को लक्ष्य करने का प्रयास किया, तो हम जैसे को तैसा उत्तर देंगे’, ऐसी चेतावनी भाजपा के नेता नितेश राणे ने पत्रकार परिषद में दी ।

मुझे मुसलमान बाहुल्य क्षेत्र से पलायन करने के लिए विवश किया जा रहा है ! – पीडित मनीष शुक्ला की पुलिस में शिकायत

हिन्दु बाहुल्य भारत में अल्पसंख्यकों को घर न मिलने पर आकाश-पाताल एक करने वाले कांग्रेसवाले, आधुनिकतावादी, साम्यवादी, निधर्मी, हिन्दू विरोधी प्रसारमाध्यम आदि अब चुप क्यों ?

अभिनेत्री रत्ना पाठक शाह तथा ‘पिंकविला’ प्रणाली को प्रियांका मिश्रा द्वारा वैधानिक सूचना (नोटिस) !

हिन्दू धर्म के अनादर के विरुद्ध वैधानिक लडाई लडनेवाली प्रियांका मिश्रा का अभिनंदन !

देवदर्शन हेतु श्रद्धालुओं से पैसे लेकर त्र्यंबकेश्वर देवस्थान ने एक दिन में ही १० लाख रुपए अर्जित (कमाए) किए !

पैसे लेकर श्रद्धालुओं को दर्शन देना अशास्त्रीय पद्धति है ! दर्शन हेतु शुल्क आंकने के लिए मंदिर कोई मनोरंजन का स्थान नहीं है ! सरकारीकरण हुए मंदिरों
को प्रशासन ‘पैसे कमाने का साधन’ के रूप में देखता है । इसीलिए यह दुःस्थिति हुई है !

झारखंड में धर्मांधों ने ५ सरकारी विद्यालयों को बंद करने पर किया बाध्य !

इससे यह ध्यान में आता है कि धर्मांध अब कानून, सरकार आदि किसी को भी महत्त्व नहीं देते ! ऐसों पर सरकार क्या कार्रवाई करेगी ?

कानपुर के एक निजी विद्यालय में हिन्दू छात्रों को इस्लामी ´कलमा´ पढ़ाया जा रहा है !

यदि भगवद् गीता का कोई श्लोक कभी किसी विद्यालय में मुसलमान या ईसाई छात्रों को पढ़ाया जाए या सुनाने के लिए कहा जाए, तो क्या वे कभी उसका पठन करेंगे ?

धर्मांध ‘पी.एफ.आई.’ का पिछडे वर्ग को साथ लेकर इस्लामी राष्ट्र बनाने का षड्यंत्र !

‘पी.एफ.आई. के द्वारा देशविघातक गतिविधियां चलाए जाने के असंख्य प्रमाण सामने आते हुए भी सरकार उस पर प्रतिबंध क्यों नहीं लगाती ?’, यह प्रश्न राष्ट्रप्रेमियों के मन में है !