त्रिपुरा में महिलाओं द्वारा की गई मार-धाड में, बलात्कार का प्रयत्न करनेवाले वासनांध की मृत्यु !

विधि-विधान हाथ में लेकर, वासनांध को शिक्षा देने की वृत्ति समाज में बढी होगी तो, इसका उत्तरदायी कौन है ?

हिजाब पर भारत में जनमतसंग्रह कराने के लिए पाकिस्तान के द्वारा खलिस्तानी संगठन ‘सीख फॉर जस्टिस’ का उपयोग

मिलनेवाले प्रत्येक अवसर को साध कर पाकिस्तान भारत का अस्थिर बनाता है, तो दूसरी ओर भारत ऐसे पाकिस्तान को पाठ पढाने के स्थान पर केवल चेतावनी देता है । अतः सरकार अब तो पाकिस्तान को पाठ पढाए, यह अपेक्षा है !

त्रिपुरा में एक मस्जिद में आग लगाने के प्रवाद (अफवाह) के पश्चात धर्मांधों द्वारा महाकाली मंदिर की तोडफोड !

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के पदाधिकारी शिवाजी सेनगुप्ता पर कांग्रेस समर्थक छात्र संगठन एनएसयूआई एवं तृणमूल कांग्रेस द्वारा प्रेरित छात्र संगठन, तृणमूल छात्र परिषद के कार्यकर्ताओं ने आक्रमण किया ।

त्रिपुरा में भीड द्वारा की गई मारपीट में बांग्लादेशी पशुतस्कर की मृत्यु !

त्रिपुरा राज्य के सिपहिजाला जनपद के कमलानगर गांव में भीड ने एक संदिग्ध पशुतस्कर से मारपीट की, जिसमें उसकी मृत्यु हुई । यह पशुतस्कर बांग्लादेश का निवासी था, ऐसा बताया जा रहा है । यह जनपद बांग्लादेश की सीमा से सटा हुआ है ।

त्रिपुरा में मुसलमानों के विरुद्ध हिंसा त्रिपुरा उच्च न्यायालय ने ही प्रविष्ट की थी !

किसी के साथ हुए अन्याय पर ध्यान देना, कोर्ट के लिए अच्छा है । इसके साथ ही, न्यायालय संपूर्ण भारत में धर्मांधों द्वारा हिन्दुओं पर किए जा रहे अत्याचारों, लव जिहाद आदि को भी संज्ञान में लेकर हिन्दुओं को न्याय दिलाएं, ऐसी हिन्दुओं की अपेक्षा है !

त्रिपुरा में मस्जिद पर हुए आक्रमण के विरोध में धर्मांधों की ओर से हिन्दुओं पर आक्रमण

हिन्दुओं के मंदिरों पर आक्रमण होने पर हिन्दू कानूनी तौर पर कार्यवाही की मांग करते हैं, तो अल्पसंख्यकों के धार्मिक स्थलों पर आक्रमण होने पर वे तुरंत कानून को हाथ में लेकर प्रत्युत्तर देते हैं !

त्रिपुरा में भीड ने मस्जिदों, घरों एवं दुकानों की तोडफोड की तथा आग लगा दी !

बांग्लादेश में हिन्दुओं पर हो रहे आक्रमणों के विरुद्ध, विश्व हिन्दू परिषद के विरोध प्रदर्शन के समय हिंसा !

न्यायालय की अवमानना की चिंता किए बिना अधिकारी काम करें  ! – त्रिपुरा के भाजपा सरकार के मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब

न्यायालय की अवमानना के प्रकरण में आपके कारागृह जाने से पूर्व मैं  (कारागृह) जाऊंगा । किसी को कारागृह में डालना आसान नहीं होता है ।

त्रिपुरा में भाजपा एवं माकपा के छात्र संगठनों के मध्य हिंसा !

वामपंथियों का अतीत और वर्तमान हिंसा से ही भरा हुआ है, यही इस घटना से पुनः स्पष्ट होता है !