पूर्व मुख्यमंत्री येडियुरप्पा की ओर से कर्नाटक में ‘वीर सावरकर रथयात्रा’ प्रारंभ

ऐसी रथयात्रा द्वारा वीर सावरकर समान लोगों को देश की स्वतंत्रता की खातिर योगदान और बलिदान के लिए जागरुक किया जाएगा । यह रथयात्रा ३० अगस्त तक मैसुरू, मंड्या और चामराजनगर जिलों में जाएगी ।

स्वातंत्र्यवीर सावरकर के भित्तिपत्रक को हाथ लगाया, तो हाथ काट डालेंगे ! – श्रीरामसेना द्वारा चेतावनी

कर्नाटक में स्वातंत्र्यवीर सावरकर के फलकों के विरोध का प्रकरण

कर्नाटक में श्री गणेश पंडाल में श्री गणेशमूर्ति के समीप वीर सावरकर का छायाचित्र लगाएंगे – हिन्दू संगठनों का निर्णय

श्रीराम सेना ने इस वर्ष का गणेश उत्सव वीर सावरकर के उत्सव के रुप में मनाने का निर्णय लिया है । इस गणेश उत्सव के समय कर्नाटक में स्वतंत्रता सेनानी वीर सावरकर के विषय में जनजागृति की जाएगी ।

 ‘उन्होंने (हिन्दुत्वनिष्ठों ने ) गांधीजी को मार डाला, क्या वे मुझे छोंडेंगे ?’

कांग्रेसियों द्वारा भारत विभाजन का निर्णय लेने के फलस्वरूप दस लाख हिन्दुओं की हत्या हुई एवं लाखों हिन्दू महिलाओं का बलात्कार हुआ, इसके लिए कांग्रेसी ही उत्तरदायी हैं !

‘कर्नाटक के शैक्षणिक संस्थानों में नमाज पढने के लिए अलग कक्ष दें !’

स्वतंत्रता के उपरांत आज तक शासकों द्वारा अल्पसंख्यकों के तुष्टीकरण का यह  परिणाम है !

यह मुसलमानों के बाप का स्थान (जगह) नहीं है; शांति से रहें, अन्यथा पाकिस्तान चले जाएं !

यदि यहां ‘जय पाकिस्तान’ अथवा ‘जय इस्लामिस्तान’ लिखा होता, तो कांग्रेस को वह चूक नहीं प्रतीत होता, यह ध्यान में लें !

कर्नाटक के विद्यालय और महाविद्यालयों में श्री गणेचतुर्थी मनाने के लिए शिक्षामंत्री का आवाहन

मुसलमान संगठनों की ओर से टिप्पणी की जा रही है तथा उन्होंने ऐसा प्रश्न पूछा है कि, ‘मुसलमान छात्राओं को विद्यालय और महाविद्यालय परिसर में हिजाब पहनने पर प्रतिबंध लगाया जाता है; तो श्री गणेशचतुर्थी मनाने की अनुमति क्यों दी जाती है ?’

शिवमोग्गा (कर्नाटक) यहां स्वतंत्रतावीर सावरकरजी का फलक हटाकर टीपू सुलतान का फलक लगाने से विवाद !

धर्मांधों ने दो हिन्दू युवकों पर चाकू से प्राणघातक आक्रमण किया !
शिवमोग्गा में संचारबंदी लागू !

कर्नाटक में भाजपा सरकार के विज्ञापनों में नेहरू के स्थान पर स्वतंत्रता सेनानी विनायक सावरकर की छवि !

भाजपा सरकार ने क्या अयोग्य किया ? कांग्रेसी इस वास्तविकता की बात क्यों नहीं करते कि स्वतंत्रता सेनानी सावरकर को कांग्रेस ने द्वेष के कारण अंधकार में डाल दिया था ? अब सावरकर को यदि कोई न्याय दे रहा है, तो राष्ट्राभिमानी देशभक्तों के लिए यह अभिमानास्पद ही है !

बेंगलुरु में कांग्रेस द्वारा लगाए टीपू सुलतान के फलक फाडें !

बेंगलुरु (कर्नाटक) में कुछ लोगों ने टीपू सुलतान के लगे हुए फलक फाड दिए । ये फलक कांग्रेस द्वारा लगाए गए थे ।