मैंने भावुक होकर वापस किये अपने वेतन के २४ लाख रुपये ! – डॉ. लालन कुमार

सहायक प्राध्यापक डॉ. लालन कुमार ने २३ लाख ८२ सहस्र २२८ रुपयों का संपूर्ण वेतन धनादेश (cheque ) के रूप में महाविद्यालय को वापस किया था ।

महाठग सुकेश चन्द्रशेखर से रिश्वत लेने के आरोप में कारागृह के ८१ जेल कर्मियोेंं के विरुद्ध अपराध दर्ज

राजधानी देहली के एक कारागृह का यह हाल है, तो देश के अन्य कारागृहों में क्या होता होगा, यह इस से ध्यान में आता है !

सामाजिक माध्यमों पर जिहादी आतंकवादी संगठनों के सहस्रों खाते !

क्या सामाजिक माध्यमों के प्रतिष्ठानों को यह दिखाई नहीं देता ? अथवा इन आतंकवादी संगठनों से उनका भी छुपा समर्थन हैं ?

चीन से भारत में निवेश करने की पाश्चात्त्य आस्थापनों की रुचि !

चीन से बाहर निकल गए २३ प्रतिशत युरोपीय निवेशियों में से सर्वाधिक निवेशियों ने भारत में निवेश किया है । इसके अतिरिक्त इंडोनेशिया एवं विएतनाम में भी निवेश बढ रहा है ।

‘ऐम्नेस्टी इंडिया इंटरनैशनल’ को ५१ करोड ७२ लाख रुपए, जबकि प्रधान कार्यकारी अधिकारी आकार पटेल को १० करोड रुपए का दंड

बिना अनुमति विदेशी निधि स्वीकार करनेवाली स्वयंसेवी संस्थाओं पर सरकार प्रतिबंध क्यों नहीं लगाती ?

राष्ट्रीय शेअर बाजार के ‘सर्व्हर’ की छेडछाड को लेकर सीबीआई ने भारत में की १८ जगहों पर छापेमारी

संजय पाण्डे की वर्तमान में पूछताछ चालू है ।

‘विवो’ नामक चीनी प्रतिष्ठान ने राजस्व (महसूल) की अनदेखी करते हुए चीन में अवैध पद्धति से भेजे ६२ सहस्र ७४६ करोड रुपए !

सहस्रों करोड रुपए का राजस्व भरे बिना वे रुपए चीन को भेजने तक क्या भारतीय तंत्र सो रहा था ? क्या सूचना तंत्र इसकी जानकारी लेते हैं कि कितने और विदेशी प्रतिष्ठान ऐसा कर रहे होंगे ?

पीलीभीत (उत्तरप्रदेश) की दुकानों से पाकिस्तानी जिहादी संगठन ‘दावत-ए-इस्लामी’ के लिए धन इकट्ठा किया जाता है !

जिहादी संगठन के लिए भारत में इस प्रकार धन इकट्ठा किया जाता है । तब सुरक्षातंत्र को इसके विषय में कुछ भी ज्ञात न होना, लज्जाजनक ! आतंकवादी संगठन के लिए पैसे मांगनेवाले और उसके लिए पैसे देनेवाले, ऐसे सभी लोगों पर कठोर कार्रवाई होना आवश्यक !

दंगाइओं से नहीं वसूला जा सकता मुआवजा ! – पटना उच्च न्यायालय

दंगाइओं की ओर से देशभर में ‘अग्निपथ’ योजना का विरोध करते हुए तोडफोड, पथराव, रेल्वे गाडियों का जलाना आदि माध्यम से अरबों रुपयों की सरकारी एवं सामाजिक संपत्ति की हानि ! पटना (बिहार) – दंगाइओं से मुआवजा वसूल नहीं किया जा सकता, ऐसा निर्णय पटना उच्च न्यायालय ने एक जनहित याचिका की सुनवाई के दौरान … Read more

गौतम अडानी के परिवार ने सामाजिक कार्य के लिए दिए ६० सहस्त्र करोड़ रुपये!

एशिया के सबसे धनवान व्यावसायिक गौतम अडानी के ६०वें जन्मदिन पर उनके परिवार ने सामाजिक कार्यों के लिए ६० सहस्त्र करोड़ रुपये का दान दिया। इस दान का उपयोग स्वास्थ्य सुविधाओं, शिक्षा और कौशल विकास के लिए किया जाएगा।