टीकाकरण के लिए दबाव नहीं डाल सकते ! – सर्वोच्च न्यायालय

टीका न लेनेवालों को सार्वजनिक स्थल के लिए प्रतिबंधित करना सरकारों की मनमानी है !

पूरे विश्व में पहली बार किसी मनुष्य में पाया गया बर्ड फ्लू का संसर्ग

चीन के हेनान प्रांत में बर्ड फ्लू के ‘एच् ३ एन् ८’ प्रकार के पहले मानवी संसर्ग का निरीक्षण सामने आया है। पूरे विश्व में किसी मानव में बर्ड फ्लू का पाया गया यह पहला संक्रमण है।

कोरोना समाप्त नहीं हुआ, वह कभी भी वापिस आ सकता है ! – प्रधानमंत्री मोदी

कोरोना एक बहुत बडा संकट था, और यह संकट समाप्त हुआ है, ऐसा हम कह ही नहीं सकते । अब भले ही वह न हो, परंतु `वह पुन: कब आएगा’, यह हमे पता नहीं है ।

विश्व की ९९ प्रतिशत जनसंख्या दूषित हवा में श्वास लेती है ! – वैश्विक स्वास्थ्य संगठन

यह विज्ञान द्वारा की गई प्रगति का दुष्परिणाम !

युरोप में ५० प्रतिशत नागरिक ओमिक्रॉन से बाधित होंगे ! – विश्व स्वास्थ्य संगठन

पिछले वर्ष कोरोना की दूसरी लहर में भारत में कोरोना गति से फैलने से पश्चिमी मीडिया ने किसी भी प्रकार से भारत की खिंचाई की थी । अब युरोप के मृतप्राय स्थिति में आने से वहां की मीडिया मौन धारण किए हुए है । यह उनका दोहरापना है, यह ध्यान दें !

देश में विगत २४ घंटे में १ लाख ५९ सहस्र नागरिक कोरोना से संक्रमित !

जनता द्वारा कोरोना के संबंध में निवारक नियमों का पालन न करने के कारण रोगियों की संख्या बढ रही है, यह ध्यान रखते हुए जनता नियमों का पालन करें  ! भारतीयों के लिए लज्जाजनक बात है कि, अनुशासन-हीन लोग कोरोना को आमंत्रित कर रहे हैं  !

बूस्टर डोज के लिए नए तौर पर पंजीकरण करने की आवश्यकता नहीं ! – केंद्र सरकार

केंद्र सरकार द्वारा की घोषणा के अनुसार देशभर में ८ जनवरी से कोरोना प्रतिबंधात्मक टीके का बूस्टर डोज दिया जाएगा । इस डोज के लिए ‘कोविन’ इस ऐप पर नए सिरे से पंजीकरण करने की कोई भी आवश्यकता नहीं ।

२०२२ तक समाप्त हो जाएगी कोरोना महामारी ! – विश्व स्वास्थ्य संगठन का दावा

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यू.एच.ओ.) के वैज्ञानिकों ने कहा है, कि वर्ष २०२२  तक कोरोना महामारी समाप्त हो जाएगी । इस संगठन के १०० वैज्ञानिकों के एक प्रतिवेदन में यह दावा किया गया है । इस बात की जानकारी एसोसिएशन के महानिदेशक ने ट्वीट करके दी है ।

दरभंगा (बिहार) के सरकारी आयुर्वेद चिकित्सालय में पहली बार, जन्म पत्रिका देखकर उपचार करनेवाले बाह्यरोगी विभाग का आरंभ ! 

भारतीय संस्कृति का इस प्रकार पुनर्जीवित होना अभिनंदनीय है ! अब देश के अन्य चिकित्सालयों में भी ऐसा विभाग आरंभ होना चाहिए !

आधे-पके चावल से कर्क रोग (कैन्सर) होने की संभावना  ! – शोध का निष्कर्ष

एक शोध से ये निष्कर्ष सामने आया है, कि पकाते समय कच्चे रहे चावल खाने से कर्क रोग (कैंसर) का संकट हो सकता है ।