महाराष्ट्र के धर्मादाय चिकित्सालयों में ७ माह में ५०० से अधिक निर्धन रोगियों पर उपचार !

राज्यस्तरीय विशेष चिकित्सकीय सहायता कक्ष द्वारा योजना का नियंत्रण !

Diabetes : परिवार में मधुमेह के इतिहास वाले ४० प्रतिशत सदस्यों में ३५ वर्ष की आयु से पहले इस बिमारी के विकसित होने की संभावना होती है !

इस रिपोर्ट के मुताबिक साल २०२१ में दुनिया के १० प्रतिशत मधुमेह रोगी अकेले भारत में थे। इसके अनुसार अनुमान है कि साल २०४५ तक देश में १२ करोड़ ४९ लाख लोग डायबिटीज से पीड़ित होंगे ।

‘पतंजलि योगपीठ’ एवं ‘इंडियन मेडिकल एसोसिएशन’ (आई.एम.ए.) के आपसी विवाद में आयुर्वेद की हानि न होने दें !

वर्तमान समय में सर्वत्र ‘पतंजलि योगपीठ’ द्वारा बनाई गई औषधियों पर प्रतिबंध लगाने के संदर्भ में ‘इंडियन मेडिकल एसोसिएशन’ अर्थात ‘आई.एम.ए.’ के द्वारा सर्वोच्च न्यायालय में प्रविष्ट याचिका तथा न्यायालय के द्वारा उस पर निर्णय देते समय दिए गए वक्तव्यों के विषय में प्रसारमाध्यमों में उल्टी-सीधी चर्चा चल रही है ।

Bihar Heat Wave : अत्यंत उष्णता के कारण बिहार के एक विद्यालय में ५० से अधिक छात्राएं बेसुध (अचेत) !

शेखपुरा जिले के एक सरकारी विद्यालय में ५० से अधिक छात्राएं अत्यंत गर्मी के कारण अचानक बेसुध हो गईं । इस कारण हडबडी मच गई । रुग्णवाहिका (एंब्युलेंस) बुलाने पर भी वह समय पर न आने से छात्राओं को निकट के चिकित्सालय में भर्ती किया गया है ।

‘गरमी का कष्ट न हो’; इसके लिए निम्न सावधानियां बरतें !

‘आजकल गर्मी का मौसम चल रहा है । इस काल में ‘शरीर का तापमान बढ जाना, पसीना छूटना, शक्ति न्यून होना, थकान होना’ इत्यादि कष्ट होते हैं । तापमान बढने से व्यक्ति मूर्च्छित होकर (लू लग जाने से) मृत्यु होने के भी कुछ उदाहरण हैं । गर्मियों में होनेवाली विभिन्न बीमारियों से दूर रहने हेतु सभी को निम्न बातों का ध्यान रखना आवश्यक है –

महाराष्ट्र में मांसाहारी उत्पाद ‘शोरमा’ और ‘मोमोज़’ खुले में खूब बिकते हैं!

इस प्रकार मांस की खुली बिक्री से सामाजिक स्वास्थ्य को खतरा है। इसलिए प्रशासन को किसी की शिकायत का इंतजार किए बिना खुद ही इस पर कार्रवाई करनी चाहिए

बरेली (उत्तर प्रदेश) यहां विद्यालय में बनी लप्सी के कारण १४ विद्यार्थियों को विषबाधा ! 

भोजन बनाने वाली महिला को अनेकों बार बताने पर भी स्वच्छता से न करने का आरोप !

Serum Institute : भारत में ‘सीरम इन्स्टिट्यूट’ के विरुद्ध भी याचिका प्रविष्ट होगी !

‘तमिलनाडु हिन्दू धर्मादाय विभाग’ ने उच्च न्यायालय को दी जानकारी !

पानी के प्लास्टिक के बोतलों की स्वच्छता, उससे होनेवाली हानि तथा बीमारियां

बच्चों को विद्यालय ले जाने हेतु स्टील अथवा अच्छी प्लास्टिक की बोतलें दें, जिन्हें प्रतिदिन स्वच्छ करना आवश्यक है; क्योंकि बच्चे बोतल को मुंह लगाकर पानी पीते हैं ।

Covishield Vaccine Side Effect : ‘कोव्हिशिल्ड’ के टीके कारण हृदयाघात (हार्ट अटैक) हो सकता है !

 ‘कोव्हिशिल्ड’ टीके के कारण ‘थ्रोम्बोसाइटोपेनिया सिंड्रोम’ के लक्षण पाए जा सकते है, जिससे कि रक्त में थक्के निर्माण होकर हृदयाघात होना, ब्रेन स्ट्रोक (पक्षाघात) होना, प्लेटलेट्स (रक्त का एक प्रकार का घटक) अल्प होना इत्यादि घटनाएं हो सकती है; परंतु यह सब होने की संभावना सुदूर होती है