हिन्दुओ, हिन्दू राष्ट्र की स्थापना के लिए ‘उपासना की शक्ति’ बढाइए और ‘शक्ति की उपासना’ कीजिए !

‘हिन्दू राष्ट्र की स्थापना के उद्देश्य से एकत्रित हुए हिन्दू राष्ट्रवीरों को मेरा नमस्कार ! हिन्दू राष्ट्र की स्थापना सहज और सरल बात नहीं है ।

वर्ष २०२५ में हिन्दू राष्ट्र स्थापना होने हेतु आज से ही सक्रिय हों ! – सद्गुरु (डॉ.) चारुदत्त पिंगळे, राष्ट्रीय मार्गदर्शक, हिन्दू जनजागृति समिति

वाराणसी के नंदी आज भी भगवान काशी विश्‍वेश्‍वर की ओर नहीं, अपितु ज्ञानव्यापी मस्जिद की ओर मुंह करके मूल मंदिर के भग्नावशेष देख रहे हैं ! वर्तमान में काशी-मथुरा, कुतुबमिनार, अजमेर में ‘ढाई दिन का झोपडा’ अर्थात ‘श्री सरस्वती मंदिर’, इन मंदिरों के विषय में आज चर्चा आरंभ हुई है; तब भी इनके अतिरिक्त १ सहस्र ५६० प्राचीन हिन्दू मंदिरों पर हुआ इस्लामी अतिक्रमण उसी स्थिति में हैं ।

हिन्दू बहुल भारत में हिन्दुओं के साथ होता है ‘द्वितीय श्रेणी के नागरिक’ समान व्यवहार ! – एम्. नागेश्वर राव, पूर्व प्रभारी महानिदेशक, सीबीआई

‘भारत में हिन्दू धर्म का पालन, अध्ययन और प्रचार की स्वतंत्रता का अभाव’ विषय पर बोलते हुए केंद्रीय अन्वेषण विभाग के (सीबीआई) के पूर्व महानिदेशक श्री. एम्. नागेश्वर राव ने कहा, ‘‘संविधान के अनुसार मिलनेवाले ५ अधिकारों में से हिन्दुओं को केवल राजनीतिक अधिकार ही मिले हैं

हिन्दू राष्ट्र की स्थापना के लिए प्रधानता लेकर कार्य कीजिए !

आज जहां सर्वत्र वैचारिक स्तर पर ध्रुवीकरण होने के समय आप सभी हिन्दू राष्ट्र-स्थापना का प्रभावशाली पद्धति से प्रस्तुतिकरण करनेवाले अध्येता वक्ता बनिए, साथ ही लेखन, सामाजिक माध्यमों आदि के माध्यम से वैचारिक कार्य कीजिए, ऐसा आवाहन सद्गुरु डॉ. चारुदत्त पिंगळेजी ने किया ।

प्राचीन धर्मशास्त्रों के आधार पर भारतीय संविधान तैयार किया जाए !

‘संविधान बनाते समय शंकराचार्य, धर्माचार्य जैसे धर्म के जानकारों का मत लिया जाए ।’, ‘भारतीय संविधान में ‘पंथ’ एवं ‘धर्म’, साथ ही ‘रिलीजन’ आदि की परिभाषाएं स्पष्ट की जाएं ।’

हिन्दू राष्ट्र संसद में सहभागी सदस्यों और विशेषज्ञ समिति के सदस्यों द्वारा रखे गए सूत्र !

हिन्दुत्वनिष्ठ कार्यकर्ता को कारागृह में डाले जाने पर उसके परिवार को अनेक संघर्षाें का सामना करना पडता है । उनके बच्चों के भविष्य का विचार नहीं किया जाता, उसके कारण उसके परिवार को आवश्यक सहायता नहीं मिलती ।

हिन्दू राष्ट्र बनाने से हमें कोई नहीं रोक सकता ! – भाजपा के विधायक टी. राजा सिंह

रामनाथी, गोवा में दशम अखिल भारतीय हिन्दू राष्ट्र अधिवेशन में ‘सर्व समस्याओं का प्रतिकार कर हिन्दू राष्ट्र की स्थापना का संकल्प करें’, इस विषय पर मार्गदर्शन करते हुए वह बोल रहे थे ।रामनाथी, गोवा में दशम अखिल भारतीय हिन्दू राष्ट्र अधिवेशन में ‘सर्व समस्याओं का प्रतिकार कर हिन्दू राष्ट्र की स्थापना का संकल्प करें’, इस विषय पर मार्गदर्शन करते हुए वह बोल रहे थे ।

वर्ष २०२४ के लोकसभा चुनावों के पूर्व केंद्रशासन सर्व हिन्दूविरोधी कानून रहित करे ! – पू. (अधिवक्ता) हरि शंकर जैन, सर्वाेच्च न्यायालय

देश में कृषि कानून, नागरिकत्व सुधार कनून के विरोध में आंदोलन हो सकता है, तो हिन्दुत्व के लिए आंदोलन क्यों नहीं हो सकता ? हिन्दुत्व के लिए देश को हिलाकर रख देना चाहिए । अब हिन्दुओं को यह दिखा देना चाहिए, ‘हिन्दूहित का लिए काम करनेवाले ही देश पर राज्य कर सकेंगे !

वह दिन दूर नहीं है जब हिन्दू एकत्रित आकर काशी विश्वनाथ मंदिर में पूजा करेंगे ! – अधिवक्ता विष्णु शंकर जैन, सर्वाेच्च न्यायालय

ज्ञानवापी मस्जिद के वजूखाना का (नमाज के पहले हाथ-पैर धोने का स्थान) पानी लगातार तीन दिन तक निकालने पर वहां भव्य शिवलिंग मिला । जिस समय मुझे उस भव्य शिवलिंग के दर्शन हुए, उस समय मैंने निश्चय किया कि, आगे से हिन्दुओं के आराध्य देवताओं का अनादर नहीं होने दूंगा ।

न्यायालय का निर्णय न माननेवालों को कर्नाटक राज्य के हिन्दुओं ने अच्छा पाठ पढाया है ! – अधिवक्ता अमृतेश एन्.पी., राष्ट्रीय उपाध्यक्ष, हिन्दू विधिज्ञ परिषद

‘‘कर्नाटक राज्य से आरंभ हुआ ‘हिजाबविरोधी आंदोलन’ कुछ दिन उपरांत राष्ट्रीय विषय बना । इसमें कुछ मुसलमान छात्राओं ने ‘हम हिजाब पहनेंगे ही’, इस मांग को लेकर कर्नाटक उच्च न्यायालय में याचिका प्रविष्ट की । इस याचिका के पक्ष में लडने के लिए अनेक अधिवक्ता खडे रहे, तो सरकार के पक्ष में और विरोध में लडने के लिए अत्यंत अल्प संख्या में अधिवक्ता थे ।