विश्वयुद्ध, भूकंप आदि आपदाओं का प्रत्यक्ष सामना कैसे करें ?

भूकंप कब, कहां और कितनी क्षमता का होगा, इसका पूर्वानुमान लगाना संभव नहीं । इसलिए यदि हमने सदैव सतर्कता, समयसूचकता और धैर्य रखा, तो जन-धन की हानि टलेगी अथवा अल्प हो सकती है ।

आगामी आपातकाल में सहायता का वरदान प्रमाणित होनेवाली सनातन की महत्त्वपूर्ण ग्रंथसंपदा !

सनातन संस्था ने ‘आपातकाल में संजीवनी सिद्ध होनेवाली ग्रंथमाला’ बनाई है । इस ग्रंथमाला से सीखी हुई उपचार-पद्धतियां केवल आपातकाल की दृष्टि से ही नहीं, अपितु अन्य समय भी उपयुक्त हैं; क्योंकि वे मनुष्य को स्वयंपूर्ण और कुछ मात्रा में परिपूर्ण भी बनाती हैं ।

आपातकाल में प्राणरक्षा हेतु करने योग्य तैयारी

आपातकाल में सुरक्षित रहने हेतु व्यक्ति अपने बल पर कितनी भी तैयारी करे, महाभीषण आपदा से बचने हेतु अंत में पूर्ण विश्वास ईश्वर पर ही रखना पडता है । मानव यदि साधना कर ईश्वर की कृपा प्राप्त करे, तो ईश्वर किसी भी संकट में रक्षा करते ही हैं ।

आपातकाल की पूर्वतैयारी के लिए घर की बालकनी में सब्जियों के रोपण हेतु साधकों द्वारा किए प्रयास, उन्हें सीखने के लिए मिले सूत्र एवं अनुभव हुई गुरुकृपा !

कोई भी पूर्वानुभव न होते हुए भी अल्प कालावधि में अनेक प्रकार की सब्जियों का सफलतापूर्वक रोपण कर पाएं और २ परिवार हेतु पर्याप्त सब्जियां मिलने लगीं ।

कोरोनारूपी आपातकाल हेतु मार्गदर्शक स्तंभ !

यह सिद्ध हो चुका है कि ‘नामजप न केवल आध्यात्मिक उन्नति के लिए पूरक है, वह विविध विकारों के निर्मूलन के लिए लाभदायक भी है । वर्तमान कोरोना महामारी के काल में रोग प्रतिरोधक क्षमता में वृद्धि होने के लिए योगासन, प्राणायाम, आयुर्वेदीय उपचार इत्यादि प्रयास समाज के लोग कर रहे हैं ।

आपतकाल की वटपूर्णिमा (वटवृक्ष की पूजा) !

ज्येष्ठ पूर्णिमा अर्थात इस वर्ष २४.६.२०२१ को वटपूर्णिमा है । वर्तमान में भारत में यातायात बंदी के कारण स्त्रियों का वट (बरगद) के वृक्ष के पास एकत्रित होकर वटवृक्ष की पूजा करना संभव नहीं है ।

वास्तव में विश्वयुद्ध, भूकंप : आपदाओं का सामना कैसे करें ?

पिछले अनेक वर्षाें से सनातन संस्था बता रही है कि आपातकाल अब दरवाजे तक पहुंच गया है और वह कभी भी भीतर प्रवेश कर सकता है । पिछले पूरे वर्ष से चल रहा कोरोना महामारी का संकट आपातकाल की ही एक छोटी-सी झलक है ।

‘आगामी आपातकाल की संजीवनी’ शृंखला के ग्रंथ ! नामजप-उपचार (३ खण्‍ड)

देवता का नामजप उपासना तथा विकारों के निर्मूलन के लिए भी उपयुक्‍त होता है । नामजप करने से शरीर में संबंधित देवता के विशिष्‍ट कंपन उत्‍पन्‍न होते हैं ।

वास्तव में महायुद्ध, भूकंप इत्यादि आपत्तियों का सामना कैसे करें

पिछले अनेक वर्षों से सनातन संस्था बता रही है कि आपातकाल अब दरवाजे तक पहुंच गया है और वह कभी भी भीतर प्रवेश कर सकता है । पिछले पूरे वर्ष से चल रहा कोरोना महामारी का संकट आपातकाल की ही एक छोटी सी झलक है ।

आपातकाल की दृष्टि से घर का निर्माण करते समय ध्यान रखने योग्य कुछ महत्त्वपूर्ण सूत्र

नई भूमि खरीदते समय तथा उस पर वास्तु का निर्माण करते समय वास्तुशास्त्र की दृष्टि से ध्यान रखने योग्य कुछ सूत्र, अल्पावधि में एवं अल्पतम व्यय में गांव में घर का निर्माण करना हो तो क्या करना चाहिए ? इस संबंध में भी जानकारी पढी । आज लेख का शेष भाग यहां दे रहे हैं ।