सनातन के आश्रम और सेवाकेंद्र में रहनेवाले साधकों को आपातकाल में तत्काल चिकित्सकीय सुविधा उपलब्ध होने हेतु ३ एंबुलेंस की आवश्यकता !

गंभीर स्थिति के रुग्ण को चिकित्सालय में ले जाना अथवा अधिक कुशलता के चिकित्सकीय उपचार हेतु अन्यत्र स्थलांरित करना, इन कार्याें के लिए रुग्णवाहिका तत्काल और सहज उपलब्ध होना अनिवार्य है ।

पूर्वजों के कष्ट दूर होने हेतु पितृपक्ष में नामजप, प्रार्थना और श्राद्धविधि करें !

आजकल अनेक साधकों को अनिष्ट शक्तियों के कष्ट हो रहे हैं । पितृपक्ष के काल में (२१ सितंबर से ६ अक्टूबर २०२० की अवधि में) इन कष्टों में वृद्धि होने से इस कालावधि में प्रतिदिन न्यूनतम १ घंटा ‘ॐ ॐ श्री गुरुदेव दत्त ॐ ॐ’ नामजप करें ।

सनातन के रामनाथी (गोवा) स्थित आश्रम हेतु बिजली पर चलनेवाले दो पहिया वाहनों की आवश्यकता !

संस्था का कार्य अर्पणदाता, शुभचिंतक, विज्ञापनदाताओं द्वारा दिए गए अर्पण पर चलता है । वर्तमान में पेट्रोल के मूल्य में वृद्धि हुई है । इसलिए पेट्रोल पर चलनेवाले दो पहिया वाहन का उपयोग करना खर्चीला हो गया है ।

सनातन के दिव्य ग्रंथों के लिए अनुवादकों की आवश्यकता !

जो भी सनातन के दिव्य ग्रंथों का अनुवाद मराठी/हिन्दी/अंग्रेजी से गुजराती/कन्नड/मलयालम/तमिल/तेलुगु तथा मराठी से अंग्रेजी में करने के इच्छुक हैं, कृपया यहां संपर्क करें ।

दैनिक, साप्ताहिक एवं पाक्षिक ‘सनातन प्रभात’ में प्रकाशित होनेवाले लेख अब जालस्थल (वेबसाइट) की एक ही ‘लिंक’ द्वारा देखने की सुविधा उपलब्ध !

सनातन प्रभात’ नियतकालिकों के जालस्थल (वेबसाइट) पर नियतकालिकों में प्रकाशित किए जानेवाले लेख जालस्थल की विविध ‘कैटेगरीज’ में विभाजित किए गए हैं । इनमें अंतरराष्ट्रीय/राष्ट्रीय/राज्यस्तरीय/स्थानीय समाचार, राष्ट्र-धर्म लेख, साधना, अनुभूति इत्यादि विविध ‘कैटेगरीज’ का समावेश है ।

सनातन के दिव्य ग्रंथों के लिए अनुवादकों की आवश्यकता !

 जिन्हें अध्यात्म के प्रति रुचि है उन्हें ईश्वरप्राप्ति शीघ्र कराने हेतु तथा संपूर्ण विश्व में हिन्दू धर्म का शास्त्रीय परिभाषा में प्रचार करने के उद्देश्य से, सनातन ने मई २०२१ तक ३३८ अनमोल ग्रंथों का प्रकाशन किया है, भविष्य में हजारों ग्रंथ प्रकाशित होंगे ।

पुणे के होमियोपैथिक चिकित्सक प्रवीण मेहता द्वारा बताए हुए ‘ब्लैक फंगस’ रोग के लक्षण और उस पर होमियोपैथिक औषधियों के उपचार !

ब्लैक फंगस’ एक प्रकार की फफूंद है तथा वह घासफूस तथा प्राणियों के गोबर के स्थान पर दिखाई देती है । इसका बीज हवा से वातावरण में फैलता है और श्‍वास द्वारा हमारी नाक में जाता है ।

‘आपातकाल से पूर्व ग्रंथों के माध्यम से अधिकाधिक धर्मप्रसार हो’, इस कार्य में लगन से सम्मिलित होनेवालों पर परात्पर गुरु डॉ. आठवलेजी की अपार कृपा होगी !

ग्रंथकार्य में सम्मिलित होने की इच्छा रखनेवाले, ग्रंथनिर्माण की सेवा करनेवाले, ग्रंथों का प्रसार करनेवाले, ग्रंथों के लिए अर्पण संकलित करनेवाले एवं ग्रंथों का वितरण करनेवाले सभी को साधना का यह अपूर्व स्वर्णिम अवसर प्राप्त हुआ है ।

रामनाथी (गोवा) सनातन आश्रम में विविध शारीरिक सेवाओं का अवसर !

रामनाथी, गोवा के सनातन आश्रम में निर्माणकार्य, बढईकाम, रसोईघर, आदि सेवाएं करने हेतु पूर्णकालीन साधक अथवा कुछ कालावधि हेतु आश्रम में आकर सेवा करने में समर्थ साधकों की आवश्यकता है ।

रामनाथी, गोवा स्थित सनातन आश्रम, साथ ही गोवा, महाराष्ट्र एवं कर्नाटक राज्य में रोपण सेवा हेतु मानव संसाधन की आवश्यकता !

सनातन के रामनाथी आश्रम परिसर में विविध औषधीय वनस्पतियां, फल, फूल इत्यादि का बडी मात्रा में रोपण किया गया है ।