हम बांगलादेश से घबरा रहे हैं क्या ? – डॉ. सुब्रह्मण्यम् स्वामी का प्रश्न

बांगलादेश में हिन्दुओं पर हुए आक्रमणों का मामला

भारत-पाकिस्तान के बीच ‘टी-२०’ क्रिकेट विश्वकप मुकाबला रद्द करें !

काश्मीर में हिन्दुओं की हत्या और सैनिकों के शहीद होने की पृष्ठभूमि पर मांग !

भारत के मुसलमान मौलवियों को अफगानिस्तान के महिलाओं के विरुद्ध हो रहे अत्याचार की निंदा करनी चाहिए ! – डॉ सुब्रह्मण्यम स्वामी की मांग

भारतीय मुसलमान मौलवियों को अफगानिस्तान में महिलाओं के साथ हो रहे अभद्र आचरण एवं अमानवीय व्यवहार की निंदा करनी चाहिए, ऐसी भारत के देशभक्त नागरिकों की अपेक्षा है ।

भारत को आतंकियों की मांगों के सामने कभी घुटने नहीं टेकने चाहिए ! – डॉ. सुब्रह्मण्यम् स्वामी, सांसद, भाजपा

हिन्दुओं की संस्कृति और हिन्दुओं का साहस तोडने का आतंकियों का राजनीतिक लक्ष्य है । उन्हें भारत के मुलभूत आधार को ही खोखला बनाना है ; इसलिए, भारत को आतंकियों की मांगों के सामने कभी घुटने नहीं टेकने चाहिएं ।

गैर-ब्राह्मणों की नियुक्ति करते समय, पूर्व पुजारियों को नहीं हटाया जाएगा ! – द्रमुक सरकार

आगम शास्त्र का अध्ययन करनेवाला ब्राह्मण बन जाता है । वर्णाें की अवधारणा को जानने के लिए गीता का अध्ययन करें । भगवान श्रीकृष्ण के अनुसार, वर्ण जाति के आधार पर नहीं, गुणों पर आधारित हैं ।

इस्लामी शक्तियों के विरुद्ध लडने के लिए एक साथ आएंगे हिन्दू एवं ईसाई ! – डॉ सुब्रह्मण्यम् स्वामी

मुसलमान आक्रमणकारियों ने भारत पर आक्रमण कर हिन्दुओं पर अत्याचार किए । उसके पश्चात, ‘ईसाई’ अंग्रेजों ने भी हिन्दू धर्म समाप्त करने का प्रयास किया । इसलिए, ये दोनों हिन्दू विरोधी हैं, यह ध्यान रखें  !

(कहते हैं) ‘गैर-ब्राह्मणों की नियुक्ति करते समय, पूर्व पुजारियों को नहीं हटाया जाएगा एवं यदि कहीं पर ऐसा किया गया, तो उस पर कार्रवाई की जाएगी !’ –  द्रमुक सरकार

तमिलनाडु सरकार द्वारा मंदिरों में गैर-ब्राह्मण पुजारियों की नियुक्ति का प्रकरण !

तमिलनाडु के मंदिरों में पुजारियों की सरकारी नियुक्तियों के विरुद्ध न्यायालय जाएंगे ! – डॉ सुब्रह्मण्यम् स्वामी

डॉ स्वामी के अतिरिक्त अधिकांश हिन्दू जनप्रतिनिधि मंदिरों के लिए कानूनी संघर्ष करते हुए नहीं दिखाई देते । ऐसे निष्क्रिय एवं धर्माभिमान-रहित जनप्रतिनिधियों को चुनना, यह हिन्दुओं के लिए लज्जाजनक !

हमारे द्वारा प्रतिशोध लेने पर पाकिस्तान के ४ टुकडे हो जाएंगे ! – डॉ सुब्रह्मण्यम स्वामी

भारत पर आक्रमण करने वाले कोई भी बचे नहीं !

भारत के शौर्यवान इतिहास के होते हुए, हमने काबुल में सेना भेजने को मना कर दिया  ! – डॉ. सुब्रह्मण्यम स्वामी

भारत के शौर्यवान इतिहास के होते हुए, हम यह कहते हुए थर-थर कांपते हैं कि  चीन लद्दाख में “आक्रामक” था और उसी प्रकार हमनें काबुल में भी सेना भेजने से मना कर दिया ।’ ऐसा सुब्रह्मण्यम स्वामी ने ट्वीट किया।