Kartarpur Saheb Gurdwara : वर्ष १९७१ में यदि मैं प्रधानमंत्री होता, तो कर्तारपूर साहिब गुरुद्वारा भारत में होता ! – प्रधानमंत्री

७० वर्षों से हम कर्तारपूर साहिब गुरुद्वारा दूरबीन से देख रहे थे । वर्ष १९७१ में यह गुरुद्वारा भारत में आ सकता था । कांग्रेस ने इतना भी नहीं किया; परंतु वर्ष २०१९ में हमारी सरकार ने कर्तारपूर साहिब तक जाने का मार्ग खुला किया ।

डोंबिवली (जिला ठाणे) यहां छात्रों को नशीले पदार्थों का विक्रय करनेवाली मुसलमान महिला को बंदी बनाया गया  !

युवा पिढी को व्यसनाधीन बनाकर देश का भविष्य संकट में डालने वाले ऐसे लोगों को हमेशा के लिए कारागृह में बंद कर देना चाहिए !

Anti-Drone System : पाकिस्तान की सीमा पर भारत स्वदेशी ड्रोन विरोधी प्रणाली कार्यान्वित करेगा !

पाकिस्तान द्वारा ड्रोन से हथियार एवं मादक पदार्थों की तस्करी की जाती है !

Rave Party Raid : घोडबंदर (थाणा) यहां ‘रेव पार्टी’ पर छापेमारी कर १०० लोग नियंत्रण में

इस पार्टी में गांजा, चरस जैसे नशीले (मादक) पदार्थ नियंत्रण में लिए गए हैं । पुलिस की अपराध जांच शाखा को इस पार्टी की जानकारी मिली थी ।

बंधकों को छोड़ने से पहले हमास ने उन्हें मादक पदार्थ दिया ! – इजरायल

विश्व को यह दिखाने का प्रयास कि ‘हमने बंधकों के साथ अच्छा व्यवहार किया’; इजरायल का दावा, वास्तव में उनकी कड़ी जांच की गई ।

Freebies Distribution In Assembly Elections : १ हजार ७६० करोड़ रुपयों की दारू, नशीले पदार्थ तथा नकद धनराशि जब्त !

यह आंकडे इन राज्यों में वर्ष २०१८ में हुए विधानसभा के चुनाव में हुए जब्त की धनराशि की ७ गुणा है । विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र भारत में ऐसा वर्षों से होता आ रहा है, यह भारतीयों के लिए लज्जाजनक है !

मादक पदार्थाें का व्यापार !

भारत में मादक पदार्थाें का व्यापार अल्प करने के लिए सरकार को तत्काल कदम उठाने चाहिए ! राष्ट्र को विकास एवं विश्वगुरु के स्तर पर ले जाने में जो अनेक चुनौतियां हैं, उनमें यह भी एक महत्त्वपूर्ण चुनौती है ।

नागपुर में नशीले पदार्थों की बिक्री पर अंकुश लगाएं ! – मुजीब पठान, प्रदेश कांग्रेस महासचिव

‘इतने वर्ष भारत पर राज्य करने पर भी कांग्रेस ने भारत को नशीले पदार्थ के दलदल से क्यों नहीं उबारा ?’, पहले इसका उत्तर दें !

अमेरिका से ब्योरे के माध्यम से गांजा मंगवाने वाले २ लोगों को बंदी बनाया !

ब्योरा माध्यम से इस प्रकार के नशीले पदार्थों की तस्करी होती होगी, तो इस विषय में भारतीय तंत्र को अधिक सतर्क होना या रोकना आवश्यक !

मणिपुर से लगी म्यांमार सीमा पर सरकार १०० किलोमीटर लंबे कंटीले तार लगाएगी

कंटीले तार लगाने से म्यांमार से होने वाली आतंकवादियों की घुसपैठ रुकेगी ही, ऐसा नहीं कह सकते । इसके लिए सतर्क ही रहना होगा !