बैंक ऑफ़ महाराष्ट्र, बैंक ऑफ़ इंडिया, इंडियन ओवरसीज़ बैंक और सेंट्रल बैंक का ६ माह में निजीकरण हो जाएगा !

ध्यान दें ! सरकार मंदिरों का सरकारीकरण करती है और सरकारी बैंकों का निजीकरण करती है, अत: सरकार को मंदिरों का सरकारीकरण निरस्त करने के लिए बाध्य करें !

नई दिल्ली : केंद्र सरकार ने अगले छह माह में सरकार के स्वामित्व वाले, बैंक ऑफ महाराष्ट्र, बैंक ऑफ इंडिया, इंडियन ओवरसीज बैंक और सेंट्रल बैंक का निजीकरण करने का निर्णय किया है । सरकार ने बजट में कहा था कि, वह सरकार के स्वामित्व वाले दो बैंकों में अपनी हिस्सेदारी बेचेगी । पहले की सरकारें, सरकारी बैंकों को निजी बैंक बनने से रोक रही थीं ; क्योंकि, इससे लाखों कर्मचारियों की नौकरियां जाने का खतरा था । वर्तमान सरकार ने यह स्पष्ट कर दिया है कि, यदि बैंकों का निजीकरण किया जाता है, तो कर्मचारियों की नौकरियां नहीं जाएंगी ।