(कहते हैं) ‘यदि इस्लाम का प्रसार तलवार के बल पर हुआ होता, तो भारत में एक भी हिन्दू शेष नहीं होता !’

कर्नाटक विधानसभा के भूतपूर्व अध्यक्ष एवं कांग्रेस नेता के आर. रमेश कुमार का दावा !

उत्तर प्रदेश में आई.ए.एस. अधिकारी मोहम्मद इफ्तिखारुद्दीन के सरकारी आवास पर हिन्दू विरोधी दुष्प्रचार और धर्म परिवर्तन पर चर्चा करने का वीडियो प्रसारित !

त्तर प्रदेश के वरिष्ठ आई.ए.एस. अधिकारी का सामाजिक माध्यम पर एक वीडियो सामने आया है, जिसमें अधिकारी मोहम्मद इफ्तिखारुद्दीन अपने सरकारी आवास पर उपस्थित कुछ मुसलमानों को हिंदू विरोधी दुष्प्रचार और धर्मांतरण के बारे में बता रहे हैं ।

मालवा (मध्यप्रदेश) में हिन्दू नौकर का बलपूर्वक धर्मांतरण कर सुंता करने वाले धर्मांध डॉक्टर और उसके लड़के पर गुनाह प्रविष्ट

   मालवा (मध्यप्रदेश) – यहां के डॉ. नसीर खान और उसका लडका जुबेर खान ने उनके नौकर दशरथ का बलपूर्वक धर्मांतरण कर उसकी सुंता करने की घटना हुई । इस मामले में धर्मांतरण विरोधी कानून के अंतर्गत पुलिस में गुनाह प्रविष्ट किया गया है ।

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर हिन्दू सहेली को मांस खिलाने से मुझे शांति मिलती थी ! – लेखिका चुगतई

२०वीं शताब्दी की उर्दू लेखिका इस्मत चुगतई की आत्मकथा में निहित हिन्दूविरोधी सूत्रों का बीबीसी द्वारा प्रसारण !

इस्लामवादी विचारधारा और उससे होने वाली हिंसा सुरक्षा के लिए प्रमुख खतरा ! – ब्रिटेन के पूर्व प्रधानमंत्री टोनी ब्लेअर

टोनी ब्लेअर को जो लगता है वह विश्व के अन्य नेताओं को लगता है क्या, या वे अभी भी धर्मनिरपेक्षता की गोद में सो रहे हैं ?

इस्लाम धर्म संगीत, नृत्य, लोकतंत्र, महिला अधिकार आदि का विरोध करता है ! – बांग्लादेशी लेखिका तस्लीमा नसरीन

क्या भारत में धर्मनिरपेक्षतावादी, आधुनिकतावादी , इस्लामवादी विद्वान आदि क्या इस विषय में बात करेंगे ? क्या वे तालिबान का विरोध करेंगे ?

‘इस्लाम’ विदेशी आक्रांताओं के साथ भारत में आया’, यह इतिहास है वैसा बताना आवयक ! – मोहन भागवत, संघ प्रमुख, रा.स्व. संघ 

मुसलमान समाज के समझदार और अच्छे विचारों के नेताओं को आततायी वक्तव्यों का विरोध करना चाहिए । उन्हें यह काम लंबे समय तक और प्रयास पूर्वक करना होगा ।

मुसलमान ने यदि इस्लाम पर टिप्पणी की, तो उसे ‘धर्मनिरपेक्षतावादी’ के स्थान पर ‘हिन्दुत्वनिष्ठ’ कहा जाएगा ! – बांगलादेशी लेखिका तस्लीमा नसरीन

आप ‘सुधारक’ या इस्लामी समाज को ‘धर्मनिरपेक्ष’ करने का प्रयास करने वाले ‘धर्मनिरपेक्षावादी’ हैं’, ऐसा वे कभी नहीं कहेंगे, ऐसा ट्वीट कर बांगलादेशी लेखिका तस्लीमा नसरीन ने मुसलमानों की मानसिकता पर प्रकाश डालने का प्रयास किया है ।

(कहते हैं) ‘काश्मीर को इस्लाम के शत्रु से मुक्त करें !’ – अल कायदा का तालिबान को आवाहन

आतंकवादियों का और उनके संगठनों का धर्म होता है और इस कारण ही वे इस्लाम के लिए एकत्रित आते हैं, यह इस आवाहन से सिद्ध होता है । ऐसे आतंकवादियों को रोकने के लिए हिन्दू राष्ट्र की स्थापना अपरिहार्य !

मुसलमानों द्वारा मुसलमानों की हत्या किए जाने पर अधिकतर मुसलमान चुप बैठते हैं; परंतु अन्य धर्मियों के मारने पर वे चिढते हैं ! – बांग्लादेशी लेखिका तस्लीमा नसरीन

इस विषय में भारत के कथित धर्मनिरपेक्षतावादियों और बुद्धिजीवियों को क्या कहना है ?