आध्यात्मिक पीडाओंके निवारण हेतु उपयुक्त सनातनका ग्रन्थ !

किसी व्यक्ति की कुदृष्टि उतारने से उसे कौनसे लाभ होते हैं ?

‘महर्षि अध्यात्म विश्वविद्यालय’ की ओर से ‘आभूषणों का व्यक्ति पर होनेवाला प्रभाव’ विषय पर फ्रांस में ‘ऑनलाइन’ पद्धति से शोधनिबंध का प्रस्तुतीकरण !

आध्यात्मिक दृष्टि से सकारात्मक आकार के आभूषण सात्त्विक स्पंदनों को आकर्षित कर सकते हैं तथा स्त्री को उसकी आध्यात्मिक प्रगति में लाभकारी सिद्ध हो सकते हैं, तो दूसरी ओर आध्यात्मिक दृष्टि से नकारात्मक आकार के आभूषण रज-तमात्मक स्पंदनों को आकर्षित कर स्त्री के प्रभामंडल पर नकारात्मक प्रभाव करा सकते हैं ।

भावविभोर होकर नृत्य करनेवालीं तथा नृत्यकला से दैवी आनंद का अनुभव करनेवालीं देहली की कत्थक नृत्यांगना श्रीमती शोभना नारायण !

‘४०-५० वर्षाें से अधिक संगीत के लिए समर्पित इन कलाकारों की ‘संगीत साधना’ अगली पीढी के लिए मार्गदर्शक सिद्ध हो’, इस उद्देश्य से महर्षि अध्यात्म विश्वविद्यालय की ओर से इन कलाकारों के साथ संवाद किया गया ।

सच्चिदानंद परब्रह्म डॉ. आठवलेजी के ओजस्वी विचार

‘कहां स्वेच्छा से आचरण करने हेतु प्रोत्साहित कर मानव को अधोगति की ओर ले जानेवाले बुद्धिप्रमाणवादी और कहां मानव को स्वेच्छा का त्याग करना सिखाकर ईश्वरप्राप्ति करवानेवाले संत !’

बंगाल में तृणमूल कांग्रेस के स्थानीय पदाधिकारी के घर में देसी बम बनाते हुए विस्फोट

हिन्दुओं को ‘भगवाधारी आतंकवादी’ कहनेवाली ममता बनर्जी के पार्टी की गुंडागर्दी एवं राष्ट्रघाती कार्यवाही के विषय में मौन है, इस पर ध्यान दें !

उत्तर प्रदेश में अलग-अलग घटनाओं में २ साधुओं की हत्या !

उत्तर प्रदेश में भाजपा की सरकार होते हुए भी साधुओं की हत्या होना हिन्दुओं को अपेक्षित नहीं । क्या इसके पीछे बडा षडयंत्र है ?, इसकी खोज राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को करनी चाहिए, ऐसा हिन्दुओं को लगता है !

प्रशासन में उच्च पद पर नौकरी प्राप्त करने के लिए महाराष्ट्र में प्रतिवर्ष ५० अल्पसंख्यक छात्रों को दिया जाता है विशेष प्रशिक्षण !

अल्पसंख्यकों को मुख्य धारा में लाने का चाहे कितने भी प्रयास क्यों न किए जाए; परंतु तब भी अल्पसंख्यकों के लिए उनका धर्म ही ‘प्रथम’ होता है, इसे ध्यान में रखिए !

अंतरराष्ट्रीय स्तर से जुडे हिन्दूद्वेष के तार !

हमें जिन बातों की जानकारी होती है, उसे परिपूर्ण मानकर हम उनके आधार पर कुछ निष्कर्ष निकालते रहते हैं अथवा उस विषय में स्वयं का मत बना लेते हैं, तथापि उन्हीं बातों में ऐसे अनेक पक्ष होते हैं, जिनके विषय में हमें कुछ भी ज्ञात नहीं होता । कुछ दिन पूर्व ही गोवा में आयोजित … Read more

समान नागरिक संहिता की आवश्यकता क्यों ?

जावेद नामक एक २६ वर्षीय मुसलमान युवक ने पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय में ‘हेबियस कॉर्पस’ याचिका प्रविष्ट की । (‘हेबियस कॉर्पस’ का अर्थ है किसी व्यक्ति को अवैध रूप से बंद कर रखा गया हो, तो उच्च न्यायालय संविधान के अनुच्छेद २२६ के अनुसार हेबियस कॉर्पस याचिका प्रविष्ट कर लेता है ।) इस याचिका में उसने कहा कि १६ वर्षीय लडकी, जो मेरी पत्नी है, उसे सेक्टर १६, पंचकुला के सुधारगृह में रखा गया है ।

आतंकवाद के विरुद्ध भारत की आर-पार की लडाई !

‘भारत देश स्वतंत्रता मिलने से लेकर विगत ७५ वर्षाें से आतंकवाद का सामना कर रहा है । इस आतंकवाद के कारण प्राणों तथा राष्ट्रीय संपत्ति की अपार हानि हो रही है । आतंकवाद के कारण देश का संपूर्ण वातावरण भी दूषित हो गया है ।