परात्पर गुरु डॉ. आठवलेजी का सच्चिदानंद परब्रह्म डॉ. जयंत बाळाजी आठवले, इस मूल स्वरूप में नामकरण करने का समय अब आ गया है !

ज्येष्ठ कृष्ण पक्ष सप्तमी, (१३.५.२०२०) को परात्पर गुरु डॉ. आठवलेजी का ७८ वां जन्मदिन था । उस दिन सायंकाल ६.४१ बजे ईरोड (तमिलनाडु) के पू. डॉ. ॐ उलगनाथन्जी ने सप्तर्षि जीवनाडी-पट्टिका का वाचन किया । उसमें सप्तर्षि ने निम्नांकित संदेश दिया ।