त्योहारों के समय देहली में आक्रमण करने का आतंकवादियों का प्रयास  ! – गुप्तचरों की जानकारी

देश में हिन्दू त्योहारों के समय ही जिहादी आतंकवादियों द्वारा आक्रमण करने का प्रयास किया जाता है, जिससे ध्यान में आता है कि, ‘आतंकवादियों का धर्म होता है’ ! ध्यान रखें कि, रमजान, बकरी ईद, मोहर्रम, क्रिसमस, गुड फ्राइडे जैसे त्योहारों के समय कोई भी संकट नहीं होता है !

आरोपियों को हिरासत में लेने गई पुलिस पर धर्मांधों द्वारा पत्थर फेंके गए : ५ पुलिस घायल

ऐसी घटनाएं देश में अनेक स्थानों पर होती रहती हैं; लेकिन इस विषय में आधुनिकतावादी और धर्मनिरपेक्षतावादी मुंह नहीं खोलते, यह ध्यान दें !

हिन्दू राष्ट्र की मांग के लिए जल समाधि लेने की घोषणा करने वाले महंत परमहंस दास पीछे हटे !

वर्ष २०२३ में, भारत में हिन्दू राष्ट्र की स्थापना होगी ही, इसलिए, ऐसे अनशन की कोई आवश्यकता नहीं होगी ; परंतु, हिन्दू  राष्ट्र की स्थापना के लिए ऐसे संतों एवं महंतों को संपूर्ण देश में जागरूकता निर्माण कर, हिन्दुओं को संगठित करना चाहिए !

दिल्ली में आतंकी आक्रमण होने की आशंका के कारण बढाई इजरायली दूतावास की सुरक्षा !

६ सितंबर को इजरायली लोग नए वर्ष का स्वागत करते हैं । उस पृष्ठभूमि पर, आक्रमण की संभावना के कारण सुरक्षा बढा दी गई है  ।

वायु प्रदूषण भारतीयों के जीवन को ९ वर्ष तक कम कर सकता है ! – शिकागो विश्वविद्यालय में ऊर्जा नीति संस्था का प्रतिवेदन !

यह विज्ञान द्वारा की गई कथित प्रगति का परिणाम है ! क्या तथाकथित वैज्ञानिक इसे गंभीरता से देखेंगे ?

दिल्ली के विधायकों का वेतन ७२,००० रुपये से बढ़कर १ लाख ७०,००० रुपये हुआ !

सामान्य जनता का वेतन इतना नहीं बढ़ता जितना विधायकों और सांसदों का बढ़ता है ! ध्यान दें कि भले ही विधायकों का कार्यकाल ५ वर्ष का होता है, किन्तु उन्हें आजीवन निवृत्ति वेतन और अन्य सुविधाऒं का लाभ प्राप्त होता है! – संपादक

देहली (दिल्ली) में स्वतंत्रता दिवस की पृष्ठभूमि पर आतंकवादी आक्रमण की तैयारी में !

विगत ३ दशकों से भारत को आतंकवाद की छाया में ही स्वतंत्रता दिवस एवं गणतंत्र दिवस मनाना पड रहा है, यह अब तक के सभी दलों के शासकों के लिए लज्जाजनक ! 

गत ३ वर्षों में पुलिस अभिरक्षा में ३४८ बंदियों की मृत्यु ! – केन्द्र सरकार

केंद्रीय गृह मंत्री नित्यानंद राय ने लोकसभा में एक प्रश्न के उत्तर में कहा कि गत तीन वर्षों में कारागृहों में ३४८ बंदियों की मृत्यु हुई है, ताे १ हजार १८९ बंदियों को मारपीट की गइ है ।

देहली में हुए दंगे के समय मुसलमान महिलाओं को दिए गए निर्देश !

जनवरी एवं फरवरी २०२१ की अवधि में देहली नगर में ‘सीएए’ कानून के विरुद्ध मुसलमानों ने दंगा भडकाया । यह दंगा तो एक योजनाबद्ध षड्यंत्र था ।