परात्पर गुरु डॉ. आठवलेजी के ओजस्वी विचार

अधिकांश समाचार पत्र केवल समाचार देने के अतिरिक्त और क्या करते हैं ? इसके विपरीत ‘सनातन प्रभात’ राष्ट्र एवं धर्म कार्य करने हेतु प्रोत्साहित करता है।

सनातन के ग्रंथ : न केवल ज्ञान, अपितु चैतन्य के दिव्य भंडार !

श्रीमद्गवद्गीता, महाभारत आदि धर्मग्रंथ ईश्वरीय वाणी द्वारा साकार हुए हैं; इसलिए उनमें चैतन्य है, उसी प्रकार सनातन के ग्रंथ भी ईश्वरीय संकल्प द्वारा साकार हुए हैं । वेदों के समान महतीवाले ये ग्रंथ स्वयंभू चैतन्य के स्रोत हैं ।

कलियुग में स्वभावदोष निर्मूलन सभी प्रकार की साधनाओं का मूलाधार !

वर्तमान कलियुग में अधिकांश लोग रज-तम प्रधान होने के कारण उनमें स्वभावदोष और अहं की तीव्रता अधिक है । इसलिए नामजप करना उन्हें कठिन होता है ।

विजयादशमी का संदेश

हिन्दुओं की विजय होने हेतु अपराजिता देवी का भावपूर्ण पूजन करें ! इस वर्ष विजयादशमी को खरा सीमोल्लंघन करने का आरंभ अर्थात अपने क्षेत्र की संदेहास्पद आतंकवादी गतिविधियों की जानकारी पुलिस-प्रशासन को दें !

परात्पर गुरु डॉ. आठवलेजी के ओजस्वी विचार

‘स्वतंत्रता से अभी तक भारत में राज्य करनेवाले किसी भी राजनीतिक दल ने जनता को साधना सिखाकर सात्त्विक नहीं बनाया । इस कारण भारत में प्रतिदिन अनेक प्रकार के सहस्रों अपराध हो रहे हैं ।’

सनातन में ‘मैंने किया’, ऐसा कुछ भी न होना – परात्पर गुरु डॉ. आठवलेजी

‘कुछ आध्यात्मिक संस्थाएं अथवा संप्रदाय कोई अभियान अथवा कार्यक्रम करने पर ‘हमने यह किया, हमने वह किया’, ऐसा बताते हुए दिखाई देते हैं; परंतु सनातन में सभी कार्य महर्षि, संत आदि के अर्थात भगवान के मार्गदर्शन अनुसार किया जाता है ।

कहां नोबेल पुरस्कार प्राप्त करनेवाले और कहां ऋषि-मुनि !

‘नोबेल पुरस्कार प्राप्त करनेवालों के नाम कुछ वर्षों में ही भुला दिए जाते हैं; परंतु धर्मग्रंथ लिखनेवाले वाल्मीकि ऋषि, महर्षि व्यास वसिष्ठ ऋषि इत्यादि के नाम युगों- युगों तक चिरंतन रहते हैं ।’ – (परात्पर गुरु) डॉ. आठवले

पश्चिमी संस्कृति को स्वीकारकर विनाश की खाई में बढता समाज !

हिन्दुओं ने पश्चिमी संस्कृति को अपनाया, इस कारण २ पीढियों में अर्थात माता-पिता एवं बेटे-बहू भी एक-दूसरे के साथ समरस नहीं हो सकते ।

आपातकाल में अणु बम की सहायता से प्रचंड संहार होगा ! – परात्पर गुरु डॉ. जयंत आठवलेजी

विश्वयुद्ध के कारण पृथ्वी पर रज-तम (प्रदूषण) बहुत बढेगा । इसलिए इस विश्वयुद्ध के पश्चात संपूर्ण पृथ्वी पर सात्त्विकता बढाने के लिए पृथ्वी को शुद्ध करना पडेगा ।