हिन्‍दूद्वेषी, राष्‍ट्र और समाज द्रोही वेबसीरीज तांडव : एक दृष्‍टिक्षेप !

एमेजोन प्राइम पर प्रसारित की जा रही तांडव नामक वेबसीरीज को दिन-प्रतिदिन हिन्‍दुत्‍वनिष्‍ठों का विरोध बढ रहा है । निर्माता हिमांशु मेहरा, निर्देशक अली अब्‍बास जफर ने इस वेब सीरीज के माध्‍यम से भगवान शिव और प्रभु श्रीराम का अनादर किया गया है ।

‘अमेजन’ ने राष्ट्रीय महिला आयोग के पत्र के उपरांत ‘मुसलमान प्रेमी के साथ हिन्दू पत्नी का प्रेमप्रकरण’ यह पुस्तक हटाई !

‘अमेजन’के ‘किंडल’ ऑनलाइन पुस्‍तक बिक्री केंद्र में मुसलमान पुरुष और हिन्‍दू महिला के संबंधों का वर्णन करनेवाली अश्‍लील पुस्‍तकों के विरोध में शिकायत आने पर और राष्‍ट्रीय महिला आयोग द्वारा ‘अमेजन इंडिया’ को पत्र लिखने के उपरांत ‘मुसलमान प्रेमी के साथ हिन्‍दू पत्नी का प्रेमप्रकरण’ यह पुस्‍तक हटाई गई ।

आंध्र प्रदेश में एक और मंदिर की मूर्ति की तोडफोड !

ईसाई मिशनरियों के कार्यक्षेत्र के राजमुंद्री जिले में स्‍थित विघ्‍नेश्‍वर मंदिर में भगवान श्री सुब्रह्मण्‍येश्‍वर स्‍वामी की मूर्ति अज्ञातों द्वारा तोडने की घटना ३१ दिसंबर की रात हुई । इस मूर्ति के दोनों हाथ तोड दिए गए ।

देहली में मांस विक्रेताआें और रेस्टोरेंट (रेस्तरां) को बताना होगा कि मांस ‘हलाल’ अथवा ‘झटका’ पद्धति का है !

दक्षिण देहली महानगरपालिका ने अपने अधिकार क्षेत्र के रेस्‍टोरेंट और मांस बिक्री की दुकानों के लिए एक योजना बनाई है । उस योजना के अनुसार वे जो बनाएंगे अथवा बेचेंगे वह मांस ‘हलाल’ पद्धति का है अथवा ‘झटका’ पद्धति का है, इसकी जानकारी उन्‍हें ग्राहकों को देनी होगी ।

धर्मनगरी उज्जैन में शांतिभंग करनेवाले पत्थरबाजों को ढूंढकर कठोर कार्यवाही करें ! – हिन्दू जनजागृति समिति

उज्‍जैन (मध्‍य प्रदेश) – रामजन्‍मभूमि पर प्रभु श्रीराम के मंदिर के निर्माणार्थ निधि संकलन करने हेतु निकाली गई हिन्‍दुत्‍वनिष्‍ठों की वाहन रैली पर छतों से और गलियों में छिपे कुछ बच्‍चे, महिला और उपद्रवी घटकों द्वारा पथराव किया गया । इसमें १४ लोग घायल हुए और ४ वाहनों की हानि हुई, इस आशय के समाचार वृत्तपत्रों में प्रकाशित हुए है ।

हिन्दु्ओ, राष्ट्र् एवं धर्म हानि रोकने हेतु जागृत हों !

‘धर्म’ राष्‍ट्र का प्राण है । राष्‍ट्र एवं धर्म की रक्षा करनी हो, तो उस विषय में समाज में वैचारिक क्रांति की ज्‍वाला भडकाना आवश्‍यक है । ऐसी वैचारिक क्रांति से प्रेरित समाज ही अपनी, अपने परिवार की, समाज की और राष्‍ट्र की रक्षा करेगा, यह बतानेवाली ग्रंथमाला !

गुणवत्तापूर्ण गणतंत्र के लिए मूलभूत अधिकार होने चाहिए !

देश में वर्ष १९७५ में आपात्‍काल घोषित किया गया था, उस समय यही प्रश्‍न उपस्‍थित हुआ था । तत्‍कालीन शासन ने आपात्‍काल की घोषणा कर मूलभूत अधिकारों पर बंधन डाले थे । साथ ही आंतरिक रक्षा का कारण बताकर लाखों लोगों को कारागार में डाला था ।

आओ देशभक्त बनें, सुराज्य लाएं !

२६ जनवरी, भारत का गणतंत्र दिवस ! परंतु आज वास्‍तविक अर्थों में देश में गणतंत्र है ही नहीं ! क्‍योंकि आज भी पानी, सडक आदि मूलभूत आवश्‍यकताओं के लिए भी आंदोलन करने पडते हैं ।

विद्यार्थियो, राष्ट्र के प्रति अपने कर्तव्य निभाकर राष्ट्राभिमानी बनें !

राष्‍ट्र के प्रतीक कौन से हैं ? राष्‍ट्रध्‍वज, राष्‍ट्रगीत, ‘वन्‍दे मातरम्’ जैसा राष्‍ट्रीय गीत, राष्‍ट्र का मानचिह्न आदि हमारे राष्‍ट्रीय प्रतीक हैं । इनका यथोचित सम्‍मान करना, हमारा राष्‍ट्रकर्तव्‍य है ।

‘तक्षशिला विश्‍वविद्यालय प्राचीन पाकिस्‍तान का प्रदेश है !’

इस्‍लामाबाद (पाकिस्‍तान) – स्‍वयं को वियतनाम का राजदूत बतानेवाले अब्‍बास खोखर ने ट्‍विटर पर भारत के लिए आदर्श तक्षशिला विश्‍वविद्यालय का चित्र पोस्‍ट कर उसे ‘प्राचीन पाकिस्‍तान’ बताया है ।
१. खोखर ने तक्षशिला विश्‍वविद्यालय के चित्र पर ट्‍वीट करते हुए कहा कि ‘यह अंतरिक्ष से दिखाई देनेवाला तक्षशिला का दृश्‍य है, जिसे पुनः बनाया गया है । २ सहस्र ७०० वर्ष पूर्व यह विश्‍वविद्यालय इस्‍लामाबाद के पास था ।