हिन्‍दूद्वेषी, राष्‍ट्र और समाज द्रोही वेबसीरीज तांडव : एक दृष्‍टिक्षेप !

एमेजोन प्राइम पर प्रसारित की जा रही तांडव नामक वेबसीरीज को दिन-प्रतिदिन हिन्‍दुत्‍वनिष्‍ठों का विरोध बढ रहा है । निर्माता हिमांशु मेहरा, निर्देशक अली अब्‍बास जफर ने इस वेब सीरीज के माध्‍यम से भगवान शिव और प्रभु श्रीराम का अनादर किया गया है ।

परात्पर गुरु डॉ. आठवलेजी के ओजस्वी विचार

 ‘शारीरिक और मानसिक बल की अपेक्षा आध्‍यात्मिक बल श्रेष्‍ठ होते हुए भी हिन्‍दू साधना भूल जाने के कारण चुटकीभर धर्मांध और अंग्रेजों ने कुछ वर्षों में ही संपूर्ण भारत पर राज्‍यकिया  अब वैसा पुन: न हो; इसलिए हिन्‍दुआें को साधना करना अत्‍यंत आवश्‍यक है ।’ – (परात्‍पर गुरु) डॉ. आठवले

‘अमेजन’ ने राष्ट्रीय महिला आयोग के पत्र के उपरांत ‘मुसलमान प्रेमी के साथ हिन्दू पत्नी का प्रेमप्रकरण’ यह पुस्तक हटाई !

‘अमेजन’के ‘किंडल’ ऑनलाइन पुस्‍तक बिक्री केंद्र में मुसलमान पुरुष और हिन्‍दू महिला के संबंधों का वर्णन करनेवाली अश्‍लील पुस्‍तकों के विरोध में शिकायत आने पर और राष्‍ट्रीय महिला आयोग द्वारा ‘अमेजन इंडिया’ को पत्र लिखने के उपरांत ‘मुसलमान प्रेमी के साथ हिन्‍दू पत्नी का प्रेमप्रकरण’ यह पुस्‍तक हटाई गई ।

पादरियों की वासनांधता की बलि !

पादरियों की वासनांधता से विश्‍व अपरिचित नहीं है । अनेक दशकों से अमेरिका और यूरोप में पादरी महिलाओं, छोटे बच्‍चों और ननों का लैंगिक शोषण कर रहे हैं, ऐसे समाचार सामने आ रहे हैं । इन प्रकरणों में ईसाईयों के सर्वोच्‍च धर्मगुरु पोप ने क्षमा भी मांगी है ।

आंध्र प्रदेश में एक और मंदिर की मूर्ति की तोडफोड !

ईसाई मिशनरियों के कार्यक्षेत्र के राजमुंद्री जिले में स्‍थित विघ्‍नेश्‍वर मंदिर में भगवान श्री सुब्रह्मण्‍येश्‍वर स्‍वामी की मूर्ति अज्ञातों द्वारा तोडने की घटना ३१ दिसंबर की रात हुई । इस मूर्ति के दोनों हाथ तोड दिए गए ।

देहली में मांस विक्रेताआें और रेस्टोरेंट (रेस्तरां) को बताना होगा कि मांस ‘हलाल’ अथवा ‘झटका’ पद्धति का है !

दक्षिण देहली महानगरपालिका ने अपने अधिकार क्षेत्र के रेस्‍टोरेंट और मांस बिक्री की दुकानों के लिए एक योजना बनाई है । उस योजना के अनुसार वे जो बनाएंगे अथवा बेचेंगे वह मांस ‘हलाल’ पद्धति का है अथवा ‘झटका’ पद्धति का है, इसकी जानकारी उन्‍हें ग्राहकों को देनी होगी ।

धर्मनगरी उज्जैन में शांतिभंग करनेवाले पत्थरबाजों को ढूंढकर कठोर कार्यवाही करें ! – हिन्दू जनजागृति समिति

उज्‍जैन (मध्‍य प्रदेश) – रामजन्‍मभूमि पर प्रभु श्रीराम के मंदिर के निर्माणार्थ निधि संकलन करने हेतु निकाली गई हिन्‍दुत्‍वनिष्‍ठों की वाहन रैली पर छतों से और गलियों में छिपे कुछ बच्‍चे, महिला और उपद्रवी घटकों द्वारा पथराव किया गया । इसमें १४ लोग घायल हुए और ४ वाहनों की हानि हुई, इस आशय के समाचार वृत्तपत्रों में प्रकाशित हुए है ।

साधना करने के कारण जीवन के कठिनतम प्रसंगों में भी व्यक्ति स्थिर रहकर उसका सामना कर सकता है ! – पू. नीलेश सिंगबाळजी, हिन्दू जनजागृति समिति

अहं खेत में उगनेवाले खरपतवार जैसा है, जिसे पूर्णतया नष्‍ट किए बिना ईश्‍वर कृपा की फसल नहीं उगती । इसलिए निरंतर इसकी कटाई करते रहना चाहिए । इसके साथ ही साथ ईश्‍वर के प्रति भाव होना भी अत्‍यंत महत्त्वपूर्ण है ।

साधको, वैकल्पिक स्थान पर घर अथवा स्थान खरीदते अथवा किराए पर लेते समय होनेवाली ठगी से बचने के लिए सतर्क रहें !

साधक स्‍थलांतरित होते समय अलग-अलग गांवों अथवा तहसील में अकेले न रहें तथा साधना की दृष्‍टि से परस्‍पर पूरक होने के लिए सुविधाजनक किसी एक गांव में अथवा तहसील में आस-पास घर लेकर रहने का नियोजन करें ।

महर्षि अध्यात्म विश्वविद्यालय की ओर से आयोजित कार्यशाला में जिज्ञासुओं के लिए परात्पर गुरु डॉ. आठवलेजी का मार्गदर्शन

परात्‍पर गुरु डॉक्‍टरजी ‘स्‍पिरिच्‍युअल साइन्‍स रिसर्च फाउंडेशन’ संस्‍था के प्रेरणास्रोत हैं । पूरे विश्‍व में अध्‍यात्‍मप्रसार करने हेतु उन्‍होंने ‘महर्षि अध्‍यात्‍म विश्‍वविद्यालय’ की स्‍थापना की है ।